संवादसूत्र,गिद्दड़बाहा(श्रीमुक्तसरसाहिब):गुरुद्वारासाहिबपातशाहीदसवेंकेनजदीकवालाफाटकमेंभारतीयकिसानयूनियनमानसाकीअगुआईमेंकिसानोंकाधरनावीरवारको43वेंदिनमेंशामिलहोगया।

धरनेकोसंबोधनकोकरतेहुएजिलाउपाध्यक्षलखवीरसिंह,मेजरसिंहब्लाकप्रधानगिद्द्ड़बाहा,संखमंदरसिंह,बलजिदरसिंह,जसपालसिंह,राजासिंह,इकबालसिंहवबूटासिंहआदिनेबतायाकिसरकारोंनेकिसानोंकेदुखदर्दसमझनेकीबजाएकिसानोंपरअपनाहुकमथोपाहै।किसानोंकीआर्थिकमंदहालीकीजिम्मेदारसमयकीसरकारेंहै।उन्होंनेहमेशाहीकिसानोंकोदबाकररखाहै।उन्होंनेकहाकिकेंद्रकीमोदीसरकारतथापंजाबसरकारकीकिसानमारुनीतियोंकोपंजाबकेलोगकभीभीसहननहींकरेंगे।किसानोंनेबतायाकि26नवंबरकोज्यादासेज्यादाकिसानदिल्लीकीतरफकूचकरेंगे।इसमौकेपरकुलवंतसिंह,मंदरसिंह,रणजीतसिंह,सुरजीतसिंह,मेजरसिंह,मिठ्ठूसिंह,भोलासिंह,बिक्करसिंह,मक्खनसिंहकेअलावाबड़़ीसंख्यामेंकिसानभीउपस्थितथे।