सोबनसिंहगुसांई,देहरादून।बेटेहरमीतकोपानेकेलिएजयसिंहनेअपनीदूसरीपत्नीसे10सालतकअदालतमेंकानूनीलड़ाईलड़ी।तबजाकरवह12सालकीउम्रमेंहरमीतकोअपनेघरलेकरआपाएथे।तबउन्होंनेइसबातकीकल्पनाभीनहींकीहोगीकिघरकायह'चिराग'हीउनकेपरिवारकीखुशियोंकादीपकबुझादेगा।

इसमामलेकेशिकायतकर्ताअजीतसिंहनेबतायाकिजयसिंहनेदोशादीकीथीं।उनकीपहलीपत्नीकुलवंतकौरकोकोईसंताननहींहुई।ऐसेमेंअजीतनेअपनीबेटीहरजीतकोपैदाहोनेकेकुछदिनबादहीजयसिंहकोगोददेदियाथा।जयसिंहउसेबहुतप्यारकरतेथे।इसकेबादजयसिंहकीपहचानसहारनपुरनिवासीअनीतासेहुई।उन्होंनेअनीतासेदूसरीशादीकरली।जयसिंहऔरअनीताकेदोबेटेहुए।उसमेंहरमीतबड़ाथा।हरमीतकेजन्मकेकुछसमयबादहीअनीताऔरजयसिंहमेंअनबनरहनेलगी।बाततलाकतकपहुंचगई।जयसिंहनेहरमीतकोपानेऔरतलाककेलिएअनीतासेदससालतककोर्टमेंकानूनीलड़ाईलड़ी।अंतमेंजबफैसलाहुआतोकोर्टनेहरमीतकोजयसिंहकीकस्टडीमेंसौंपदिया।

वहीं,अनीताऔरदूसरेबेटेकीपरवरिशकेलिएजयसिंहकोउन्हें50लाखरुपयेदेनेपड़े।इसकेबादजयसिंह,हरमीतकोघरलेआए।हरमीतजैसे-जैसेबड़ाहोतागया,उसकेअंदरसंपत्तिकोलेकरलालचपनपनेलगा।जयसिंहबेटीहरजीतकोबहुतप्यारकरतेथे।ऐसेमेंहरमीतकोयहडरसतानेलगाकिकहींजयसिंहअपनीजमीन-जायदादहरजीतकेनामनकरदें।इसकोलेकरहरमीतऔरहरजीतकेबीचअक्सरझगड़ाभीहोतारहताथा।इसीजमीन-जायदादकेलालचमेंहरमीतनेदीपावलीवालेदिनइसदिलदहलादेनेवालीघटनाकोअंजामदेडाला।

चाकूसेकिएथे85वार

हरमीतनेपिताजयसिंह,सौतेलीमांकुलवंतकौर,गर्भवतीबहनहरजीतकौरऔरतीनसालकीभांजीसुखमणिकीबड़ीबेरहमीसेहत्याकीथी।चारोंसदस्योंपरहरमीतनेकुल85बारचाकूसेवारकियाथा।उसनेसबसेअधिक27वारसौतेलीमांपरकिए।पितापर24,गर्भवतीबहनपर24औरभांजीपर10वारकिए।उसनेहरजीतकेपेटमेंचाकूसेकईवारकिए,जिससेउसकेगर्भमेंपलरहेबच्चेकीभीमौतहोगई।

..तोबचजातीहरजीतवबच्चेकीजान

अजीतनेबतायाकिदीपावलीसेपांच-छहदिनपहलेहीहरजीतअपनेपिताजयसिंहकेघरडिलीवरीकेलिएआईथी।हत्याकांडसेएकदिनपहलेयानी23अक्टूबरकोस्वजनहरजीतकोचेकअपकेलिएनिजीअस्पताललेगएथे।चिकित्सकनेबच्चेकोकमजोरबतातेहुए24अक्टूबरकोडिलीवरीकरवानेकेलिएकहाथा।25अक्टूबरकोहरजीतकीशादीकीसालगिरहथी।ऐसेमेंहरजीतचाहतीथीकिबच्चेकाजन्मउसीदिनहो।अगरहरजीतचिकित्सककेकहेअनुसार24अक्टूबरकोडिलीवरीकरानेकेलिएअस्पतालचलीजातीतोशायदउसकीऔरबच्चेकीजानबचजाती।

घटनाकोचोरीसेजोड़नेकाकियाथाप्रयास

इसजघन्यवारदातकोहरमीतचोरीसेजोड़नेकाप्रयासकररहाथा।उसनेघटनाकेचश्मदीदगवाहभांजेकमलसेकहाथाकिअगरकोईइसबारेमेंपूछेतोकहनाकिचोरआएथे।वहीसबकोमारकरचलेगए।चोरोंसेसंघर्षकीबातसाबितकरनेकेलिएहरमीतनेअपनीबाईहथेलीपरचाकूसेकटभीमाराथा।

यहभीपढ़ें:-उत्तराखंड:हरमीतसिंहकोफांसीकीसजा,परिवारकेपांचसदस्योंकीबड़ीहीबेरहमीसेकीथीहत्या