जासं,शहाबगंज/बबुरी(चंदौली):श्रीरामकाचरित्रअनुकरणीयहै।जोकोईप्रभुश्रीरामकेआदर्शोंपरचलनेकासंकल्पलेले,तोउसकाजीवनधन्यहोजाताहै।यहबातेंबबुरीमेंआयोजितसंगीतमयश्रीरामकथाकेदूसरेदिनसोमवारकोकथाव्यासजगतगुरुरामानुजाचार्यस्वामीरामकृष्णआचार्यरत्नेशजीमहाराजनेकही।कहा,जीवनकीसार्थकताकेलिएअध्यात्मवधर्मकाअनुसरणबहुतजरूरीहै।वहींमानसपरिवारसेवासमितिकीओरमसोईगांवकेहनुमानजीमंदिरपरिसरमेंसंगीतमयश्रीरामकथाकेतीसरेदिनव्यासडा.रामकमलदासवेदांतीजीनेश्रद्धालुओंकोश्रीरामकेचरित्रकीकथाकारसपानकराया।

कहा,श्रीरामकथाआदर्शपथपरचलनेकीप्रेरणादेतीहै।भगवानश्रीरामकाचरित्रजहांएकओरपारिवारिकरिश्तोंकीअहमियतकोदर्शाताहै,वहींदूसरीओरभेदभावकोमिटाकरमानवमेंसौहार्दकीभावनाजगाताहै।भगवानश्रीरामनेअहिल्याकाउद्धारकरकेयहबतायाकिमहानवोहैं,जोपतितप्राणियोंकोपावनबनाकरसमाजकीमुख्यधारासेजोड़दे।मर्यादापुरुषोत्तमश्रीरामनेमिथिलापुरीकाभ्रमणबड़ीशालिनताकेसाथकिया।श्रीराम,मांसीतावलक्ष्मणकेआगमनकीसूचनामिलीतोलोगधामऔरकामदोनोंकोहीछोड़करअत्यंतविह्वलभावसेप्रभुकेदर्शनकोदौड़पड़े।होलीऔरदीवालीजैसेपर्वखुशियोंकेरंगऔरआध्यात्मिकप्रकाशकीऊर्जाकोबढ़ातेहैं।पाश्चात्यसंस्कृतिसेआएपर्वहमारीयुवापीढ़ीकोभ्रमितकररहेहैं।मर्यादितजीवनकेसूत्रोंकोश्रीरामकथासेहीसीखाजासकताहै।अरुणसिंह,विमलेशसिंह,कपिलसिंह,रमाशंकरपांडेय,अशोकतिवारी,रमाशंकर,रामअवधसिंहआदिकथाप्रेमीउपस्थितथे।