जगतसिंहरौतेला,द्वाराहाट(अल्मोड़ा):जीवनदायिनीकोसीवउसकीसहायकनदियोंकेबादअबपवित्रगगासनदीकोअत्याधुनिकभौगोलिकसूचनाविज्ञानतकनीक(जीआइएस)सेनयाजीवनमिलेगा।बीतेतीनदशकसेगैरहिमानीनदियोंकोबचानेमेंजुटेजलविज्ञानीप्रो.जीवनसिंहरावतनेगगासपरशोधकरउसकेरहस्योंसेपर्दाउठायाहै।साथहीजैविकवयांत्रिकउपचारकेलिएभौगोलिकमानचित्रतैयारकरअबमाइक्रोप्लानबनानेमेंजुटगएहैं।एकऔरभगीरथप्रयाससेकोसीकीतर्जपरगगासकेउद्धारकीउम्मीदेंजगीहैं।

हिमालयीराज्यकीगैरहिमानीनदियोंकेपुनर्जननमेंजुटेनेशनलजियोस्पेशलचेयरप्रोफेसरविज्ञानएवंप्रौद्योगिकी(भारतसरकार)कीपहलपरहीपूर्वसीएमत्रिवेंद्रसिंहरावतनेनदीसंरक्षणकोड्रीमप्रोजेक्टमेंशामिलकियाथा।अबप्रो.रावतनेऋषिगार्गीकीतपोस्थलीसेनिकलनेवालीगगासपरशोधकरउसकेरहस्योंसेपर्दाहटायाहै।वहींउसकेपुनर्जननकीराहभीदिखाईहै।

कभी8509सहायकस्रोतवधारेथे

किसीदौरमें513वर्गकिमीदायरेकोसंचारितकरनेवालीगगासके8509सहायकस्रोत,धारेवछोटीनदियांथीं।जोधीरेधीरेसूखचुकीं।पहाड़केअन्यअन्यजलगमोंकीतुलनामेंगगासकैचमेंटएरियाघनाहै।इसकाजनसंख्याघनत्व690व्यक्तिप्रतिवर्गकिमीहै।मगरडेढ़दशकपूर्वसदानीराकाजलप्रवाहथमनाशुरूहोगया।भिकियासैंणमेंगगासवअपनीपैतृकनदीपश्चिमीरामगंगासेसंगमकेपाससूखचुकीथी।लंबेअध्ययनबादप्रो.जीवनने16जून2005कोगगासकोमौसमीनदियोंकीसूचीमेंशामिलकिया।वर्तमानमेंलगभग1771किमीकेजलीयजालसेरानीखेतवगगासघाटीके392गांवोंवखेतोंकीप्यासबुझानेवालीगंगासालदरसालदमतोड़तीजारही।

मातृशक्तिबनीमिसाल

बीतेवर्षजिलापंचायतअध्यक्षउमासिंहबिष्टïनेगगासकोनयाजीवनदेनेकेलिएद्वाराहाटक्षेत्रकीमातृशक्तिकोसाथलिया।बीतीचारअगस्तकोगार्गेश्वरक्षेत्रसेपुनर्जननअभियानशुरूकिया।इसीपहलपरअबप्रो.जीवनजीआइएसआधारितमाइक्रोप्लानबनारहेताकिमातृशक्तिकीमुहिमकोमुकामदियाजासके।

नेशनलजियोस्पेशलचेयरप्रोफेसरविज्ञानएवंप्रौद्योगिकीप्रो.जीवनसिंहरावतनेबतायाक‍िनदियांहमारीसभ्यतासंस्कृतिकीवाहकभीहैं।इन्हेंनबचायातोआनेवालीपीढ़ीहमेंकोसेगी।गगासबचानेकोजनप्रतिनिधियोंवमातृशक्तिकीपहलसराहनीयहै।पुनर्जननकार्यकठिनपरजनसहयोगसेभगीरथप्रयासआसानकरदेताहै।जिलापंचायतअध्यक्षउमासिंहकोनदीबचानेकेलिएहरसंभवसहयोगदेंगे।माइक्रोप्लानबनाकरउपलब्धभीकरायाजाएगा।

जिलापंचायतअध्यक्षउमासिंहबिष्टकाकहनाहैक‍िगगासबचानाकोजरूरीहै।इसमुहिमकोमिशनकेरूपमेंलियाजारहाहै।नदीपुनर्जननकोप्रो.रावतसेविज्ञानीसलाहकेसाथपूरासहयोगलियाजाएगा।ताकिगगासकोमौलिकस्वरूपदिलायाजासके।