संवादसहयोगी,मोगा:सीएचसीढुडीकेमेंअनुशासितजीवनपरहुईकाउंसलिगमेंसीएमओडा.नीलमभाटियानेकहाकिअनुशासनसेहीजीवनमेंशारीरिक,मानसिकवबौद्धिकविकाससंभवहै।मेंटलहेल्थकेतहतसीएचसीढुडीकेमेंनशाछुड़ाओकेंद्रमेंदवाईलेनेआएमरीजोंकीकाउंसलिगकीगई।इसमौकेपरडा.साक्षीबांसल,काउंसलरअमनदीपकौर,लखविदरसिंहबीईईनेअनुशासितजीवनजीनेकेसंबंधमेंकाउंसलिगकी।

लाइफकाउंसलरअमनदीपकौरनेकहाकिरोजानाजिदगीमेंहमेंअच्छीआदतअपनानेकीजरूरतहै।इससेजीवनसफलवआसानहोजाताहै।जीवनमेंबुरीआदतोंकोस्थाननदें।केवलअच्छीबातेंसोचेंऔरसकारात्मकसोचकेसाथआगेबढ़ें।उन्होंनेकहाकिरोजानाकेकार्योंमेंव्यस्तहोनेकारणहमेंअपनेलिएकुछसमयनहींमिलपाता।जिसकारणहमाराजीवनप्रभावितहोताहै।डा.साक्षीबांसलवलखविदरसिंहनेकहाकिकोविड-19नेपिछलेदोवर्षोंदौरानहमारेजीवनकोशारीरिक,मानसिक,आर्थिकवसामाजिकतौरपरबुरीतरहप्रभावितकियाहै।इनसारीस्थितियोंमेंअनुशासितजीवनजीकरहीनिपटाजासकताहै।

कोविडसेप्रभावितमरीजमानसिकतौरपरअपनाबलगंवादेतेहैं।इससेउनकीशारीरिकताकतकमहोजातीहै।जरूरतहैकिकोविड-19सेअनुशासितवयोजनाबद्धढंगसेलड़नेकी।इसकेलिएजरूरीहैकिहमअपनेजीवनकोअनुशासितकरें,ताकिकोईसमस्याआनेपरहमउसकामुकाबलाकरनेकेलिएतैयाररहे।इसमौकेपरफार्मासिस्टराजकुमार,स्टाफनर्सपवनप्रीतकौर,सिमरजोतसिंह,चनप्रीतसिंहउपस्थितथे।