अयोध्या,जागरणसंवाददाता।कल्याणसिंहअपनीसुदीर्घऔरगौरवपूर्णजीवनयात्राकेदौरानविविधभूमिकाओंमेंरहे।दिग्गजभाजपानेता,मुख्यमंत्रीऔरराज्यपालकेरूपमेंउन्होंनेअमिटछापछोड़ी,किंतुश्रीरामकेप्रबलअनुरागीकेतौरपरवेनरहतेहुएभीरामभक्तोंकेदिलपरराजकररहेहैं।इससच्चाईकीतस्दीकगुरुवारकोअपराह्नसरयूतटपरहुई,जबउनकेपुत्रसांसदराजवीरसिंहपत्नी-पुत्रीऔरपरिवार-कुटुंबके सदस्यों,अनेकविधायकोंऔरभाजपानेताओंकेकाफिलेकेसाथपिताकाअस्थिकलशलेकररामनगरीपहुंचे।

सरयूतटस्थितरामकीपैड़ीकेप्रांगणमेंसैकड़ोंसंतोंएवंमहापौररिषिकेशउपाध्याय,विधायकवेदप्रकाशगुप्त,गोरखनाथबाबा,पड़ोसकेगोंडासदरसेविधायकप्रतीकभूषणसिंह,जिलासहकारीबैंककेसभापतिधर्मेंद्रप्रतापसिंहटिल्लू,जिलापंचायतअध्यक्षरोलीसिंहकेप्रतिनिधिआलोकसिंहरोहित,जिलाभाजपाध्यक्षसंजीवसिंह,पूर्वजिलाध्यक्षअवधेशपांडेयबादल,महानगरअध्यक्षअभिषेकमिश्र,महामंत्रीपरमानंदमिश्र,मंत्रीआकाशमणित्रिपाठी,जिलाभाजपाकेमीडियाप्रभारीदिवाकरसिंह,उनकेसहायकअंशुमानमित्रा,वरिष्ठभाजपानेतामुन्नासिंह,अमलगुप्त,दिवेशत्रिपाठी,नगरअध्यक्षबालकृष्णवैश्य,पूर्वनगरअध्यक्षडाॅ.राकेशमणित्रिपाठी,जिलापंचायतकेपूर्वसदस्यगिरीशपांडेयडिप्पुल,सोमिलगुप्त,भाजयुमोकेमहानगरअध्यक्षरविशर्मा,कैलाशमिश्रआदिनेकल्याणसिंहअमररहेंकेगगनभेदीनारेएवंपुष्पांजलिकेसाथअपनेप्रेरकनेताकेअस्थिकलशकाइस्तकबालकिया।

इसदौरानभाद्रमासकेशुक्लपक्षकीशुभ्र-क्षिप्रपुण्यसलिलासरयूसेलेकरधूप-छांवसेअठखेलियांकरतारामनगरीकाआसमानभीअपनेप्रियपात्रकेअस्थिकलशकाअभिनंदनकरताप्रतीतहुआ।अगलेकुछपलमौनकेरहे।इसमौनकेबीचकइयोंकीआवाजखुदबखुदजवाबदेगईऔरह्रदयकाभावआंखोंकीकोरपरउभरआईनमीसेबयांहोरहाथा।कुछपलकामौनतबटूटा,जबबोटसेसरयूमेंराजवीरसिंहनेचुनिंदाविशिष्टजनोंकेसाथकलशसेपिताकाअस्थिअवशेषविसर्जितकिया।सरयूकीतेजधारामेंकल्याणसिंहकीअस्थियांविलीनहोनेमेंतोपलभरकीभीदेरीनहींहुई,किंतुप्रियनेताकीस्मृतिमेंखोएप्रशंसकाेंकासैलाबस्वयंकोसंयतकरनेकेलिएकाफीदेरतकप्रयत्नकरतादिखा।विधायकवेदप्रकाशगुप्तभर्राईआवाजमें1989केउसदौरकोयादकरतेहैं,जबउन्होंनेगुप्तकोभाजपामेंशामिलहोनेकेलिएप्रेरितकियाथा।

प्रियनेताकीयादमेंसंतभीहुएव्यथित: कल्याणसिंहकेअस्थिविसर्जनकेमौकेपरवीतरागीमानेजानेवालेधर्माचार्यभीव्यथितहुएबिनानहींरहसके।भावांजलिकेसाथउन्होंनेकल्याणसिंहकावैशिष्ट्यपरिभाषितकिया।इनमेंतिवारीमंदिरकेमहंतगिरीशपतित्रिपाठी,तपस्वीछावनीपीठाधीश्वरजगद्गुरुपरमहंसाचार्य,आंजनेयसेवासंस्थानकेअध्यक्षमहंतशशिकांतदास,हनुमानगढ़ीसेजुड़ेयुवामहंतराजूदास,डांडियामंदिरकेमहंतगिरीशदास,रामकथामर्मज्ञसंतचंद्राशु,सुग्रीवकिलाकेअधिकारीअनंतपद्मनाभाचार्य,महंतप्रशांतदास,सीतावल्लभकुंजकेमहंतछविरामदासआदिरहे।