अयोध्यामेंराममंदिरकानिर्माणशुरू होगयाहै.रामभक्तोंकोमंदिरकाबेसब्रीसेइंतजारहै.लेकिन,राममंदिरकेलिए1200पिलर्सकीजोड्रॉइंगतैयारकीगईथीवहफिलहालकामयाबहोतीनहींदिखरहीहै.अबसवालयहउठताहैकिराममंदिरनिर्माणकोलेकरट्रस्ट,निर्माणएजेंसियोंऔरविशेषज्ञोंकाअगलाकदमक्याहोगा.साथहीयेसवालभीहैकिअबतकराममंदिरनिर्माणकोलेकरक्या-क्यापरेशानियांहैं.इसमेंकितनीसफलताहाथलगीहैऔरकितनीविफलता.

सबसेपहलेराममंदिरकी बुनियादकास्ट्रक्चरतैयारकरनेकेलिएजोडिजाइनबनाया गया उसमें1200पिलरजमीनकेभीतर125फीटगहराईमेंबोरकिएजानेथे.लिहाजाटेस्टिंगकेलिएकुछपिलरकोजमीनकेभीतर125फीटतकडालागयाउसकोपूरीतरहमजबूतहोनेकेलिए28से30दिनतकछोड़ागयाइसकेबादजबउसपर700टनकावजनडालागयाऔरभूकंपकापरीक्षणकरनेकेलिएभूकंपकेझटकेदिएगएतोइनपरीक्षणोंकेदौरानयहपिलरअपनेस्थानसेखिसकऔरमुड़गए.इसकेबादजिसड्रॉइंगपरराममंदिरकानिर्माणकियाजानाथाउसेरोकदियागयाऔरनएसिरेसेप्लानिंगकेलिएआईआईटीदिल्लीआईआईटीगुवाहाटी,आईआईटीमुंबई,आईआईटीसूरतकेवर्तमानऔररिटायर्डप्रोफेसरऔरवैज्ञानिकोंकेसाथटाटा,लार्सनऔरटूब्रोकेविशेषज्ञोंकीएकजॉइंटटीमबनाईगई.

इंटटीमकी15दिनोंतककॉन्फ्रेंस

इसजॉइंटटीमकी15दिनोंतकलगातारकॉन्फ्रेंसचली,लेकिनअभीतककोईनतीजानहींनिकलाहै.ट्रस्टकेमहासचिवचंपतरायकाकहनाहैकिइसकोअच्छेसेलेनाचाहिएकियोग्यलोगऐसेहीहोतेहैं. जहांमंदिरकागर्भगृहबननाहैउसकेपश्चिममेंजलकाप्रवाहहैसरयूनदीबहतीहैऔरजिसलेबलपरमंदिरबननाहैउसकेनीचे50फीटतकगहराहै.जबनिर्माणएजेंसियांजमीनकेनीचेपरीक्षणकेलिएगईतबपताचलाकि17मीटरतकभरावहैओरिजिनलमिट्टीनहींहै.उसकेनीचेजानेपरपतालगाभुरभुरीबालूहै.कुछभीसॉलिडनहींहै, इसलिएआईआईटीचेन्नई,आईआईटीमुंबई,आईआईटीदिल्ली,आईआईटीगुवाहाटी,सेंट्रलबिल्डिंगरिसर्चइंस्टीट्यूटरुड़कीउसकेवर्तमानऔररिटायर्डदोनोंप्रकारकेवैज्ञानिकऔरप्रोफेसर,टाटाऔरलार्सनएंडटूब्रोकेअनुभवीलोगऔरट्रस्टद्वारानियुक्तकिएगएप्रोजेक्टमैनेजरमहाराष्ट्रऔरंगाबादकेजगदीशकेसाथमिलकरचर्चाकररहेहैं.

जलकाप्रवाहमंदिरकोनुकसाननापहुंचाए, इसकेलिएक्याकरनाहै

भुरभुरीबालूमेंटिकाऊकैसेबनेइसकानिर्णयऔरकंक्रीटकीआयुकईशताब्दियोंतककैसेबढ़ाईजाएयहअध्ययनकेविषयहैं.हालांकिइसपरसभीनेमिलकरकुछप्रस्तावदिएहैं.लेकिनकिसीपरभीअभीतकसहमतिनहींबनपाईहै.दरअसलजहांपरराममंदिरकानिर्माणहोरहाहैरहाहैउसकीपश्चिममेंसरयूनदीबहतीहैऔरइसीलिएभूमिकेभीतरकीमिट्टीरिसर्चकेदौरानभुरभुरीऔरबलुईपाईगई.यहीनहींइसीबीचएकऔरचिंताभीसामनेआगईहै.यहचिंताइसबातकीहैकिभूतकालमेंजिसतरहअयोध्यामेंसरयूनेअपनारास्ताबदलाउसीतरहअगरभविष्यमेंसरयूनेअपनेजलप्रवाहकारास्ताबदललियातोराममंदिरकेलिएसंकटनाखड़ाहोजाए.इसीलिएअबइसकोलेकरभीरिसर्चहोरहाहै.

अभीतकयहतयहुआहैकिमंदिरकेचारोंतरफकंक्रीटकीदीवारयानी रिटेनिंगवॉलबनाईजाएगी.यानी पश्चिमदिशामेंशताब्दियोंकेबादभीअगरसरयूकेपानीकाप्रवाहअपनीदिशामोड़लेतोउसकोरोकनेकेलिएजमीनकेभीतरएकऐसीदीवार बनाईजाएगीजोपानीकेप्रवाहकोरोकेरखे,हालांकिअभीतकयहतयनहींहुआहैकियहदीवारकितनीगहरीऔरकितनीमोटीहोगीलेकिनइसदीवारकोजैसेनदीमेंबांधबनायाजाताहैउसीतरहबनायाजाएगा.