जासं,बरनाला:गांवजैमलसिंहवालामें25वर्षीययुवाकिसाननेवीरवारदेररातघरमेंपंखेसेफंदालगाकरआत्महत्याकरली।पुलिसनेशवकोसिविलअस्पतालबरनालाकेमोर्चरीमेंरखवायाहै।जहांकिसानयूनियनकीओरसेअगलेफैसलेतकपोस्टमार्टमनहींकरवायाजाएगा।मृतककीपहचानसतवंतसिंहकेरूपमेंहुईहै।सतवंतकापरिवारभाकियूसिद्धपूरसेजुड़ाहुआहैऔरकिसानसंघर्षमेंआगेरहाहै।सतवंतसिंहपिछलेपांचमहीनेसेकेंद्रकेखिलाफसंघर्षमेंशामिलरहा।वहदिल्लीभाकियूसिद्धपूरकेसाथमोर्चापरशामिलरहा।वीरवारदेरशामकोहीदिल्लीसेलौटाथा।सतवंतसिंहदिल्लीसंघर्षमेंगर्मीकेकारणकिसानोंकोआनेवालीसमस्याकोलेकरट्रालियांपरलकड़ीसेकिएगएइंतजामकोदेखनेगयाथा।जहांट्रालियोंपरगर्मीसेराहतकोलेकरकिसप्रकारकेमाडलबनाएहैं,यहसबदेखकरगांवलौटाथा।वीरवारकोहीदेररातअपनेकमरेमेंफंदालगाकरसतवंतनेआत्महत्याकरली।

गांवमेंखेतीवलकड़ीकाकामकरताथा

गांवजैमलसिंहवालाकेसरपंचसुखदीपसिंहनेबतायाकि25वर्षीयकिसानसतवंतसिंहपुत्रगुरचरणसिंहदोकनालजमीनपरखेतीकरताथा।इसकेसाथवहलकड़ीकाकामकरताथा।सतवंततीनतीनभाईबहनहैं।उसकीबहनशादीशुदाहैवभाईअहमदाबादमेंफौजमेंतैनातहै।कृषिकानूनोंकेखिलाफसंघर्षमेंसतवंतसिंहशुरूसेहीजुड़ाहुआथा।दिल्लीसंघर्षमेंकिसानोंकीहालतवहरदिनकिसीनकिसीकिसानकीमौतकोलेकरकाफीचितितथाऔरमानसिकपरेशानचलरहाथा।सतवंतसिंहहरसमयसंघर्षकोलेकरबातकरतारहताथा।वहकहताथाकिअगरउनकीमांगेपूरीनहींहुई,तोकिसानखत्महोजाएगा।किसानकीजमीनछीनलीजाएगीवकिसानखत्महोजाएगा।इन्हींबातोंकोवहसोचतारहताथा।इसकारणउसनेआत्महत्याकरली।

जनवरीमेंहीमहलकलांनिवासीयुवतीसेहुईथीतयशादी--

सतवंतकेपितागुरचरणसिंहनेबतायाकिउसकेदोबेटेहैं।बड़ाबेटाफौजमेंनौकरीकरताहै।सतवंतघरमेंलकड़ीकाकामवखेतीकरताथा।उन्होंनेबतायाकिजनवरीकीशुरुआतमेंहीमहलकलांकीएकलड़कीसेउसकीशादीतयहुईथीऔरमंगनीहोगईथी,लेकिनकिसानोंकेसंघर्षकोदेखतेहुएउसनेदेरीसेशादीकरनीथी।अबउसकीबारातसेपहलेउसकीअर्थीनिकालनीपड़ेगी।

मुआवजाकीमांगपूरीहोनेकेबादहीपोस्टमार्टमकरवायाजाएगा

भाकियूसिद्धपूरकेजिलाप्रधानजसपालसिंहकलालमाजरावजिलावाइसप्रधानकरनैलसिंहगांधीनेकहाकिकेंद्रसरकारकेकृषिविरोधीकानूनबरनालामेंदोदर्जनसेअधिककिसानोंकोनिगलचुकीहै।सतवंतसिंहमौतबहुतहीदुखदाईहै।कुछसमयपहलेउसकीमंगनीतयहुईथीऔरशादीकीतैयारीचलरहीथी।यूनियनद्वारापरिवारकोसरकारीनौकरी,कर्जमाफीवमुआवजाकीमांगकोपूराहोनेकेबादहीपोस्टमार्टमकरवायाजाएगा।