थानान्तर्गतपिरैलीसुल्तानगांवमेंस्थितनवनिर्मितश्रीभुवनेश्वरिदुर्गादेवीमंदिरमेंप्राण-प्रतिष्ठाकार्यक्रमकाआयोजनकियागयाहै।जिसमेंपांचदिवसीयश्रीरामकथाकाशुभारंभसोमवारकोभव्यरूपसेनिकलीकलशयात्राकेसाथहुआ।गाजे-गाजेकेबीचनिकलीयात्रामेंचारोंओरजयघोषकीगूंजसुनाईपड़ी।हरतरफभक्तिकामाहौलदिखाईदिया।

मंदिरकेपासकलशयात्राकीतैयारीसुबहसेहीदिखाईदेनेलगी।जैसे-जैसेसमयआगेबढ़ा,भीड़बढ़नेलगी।जिसमेंमहिलाओंकीसंख्याउल्लेखनीयरही।दिनमेंकरीब11बजे101महिलाएंसिरोंपरकलशलिएआगेबढ़ी।आगे-आगेअबीर-गुलालउड़ातेयुवाझूमरहेथे,तोपीछेकलशलिएमहिलाएंआगबढ़रहीथीं।पिरैला,छीतिरगांवा,शंकरपुर,भोलापुर,चंदोखाआदिमार्गोंसेकलशयात्राकुआनोंनदीकेइटहियाघाटपरपहुंची।जहांपरयज्ञाचार्यरामसुभगतिकेद्वाराविधि-विधानवमंत्रोच्चारकबीचसभीकलशमेंजलभरागया।यहांसेकलशयात्रावापसपिरैलीसुल्तानस्थितमंदिरपरपहुंची।जहांपरपूजन-अर्चनकेबीचकलशकोस्थापितकरायागया।सचिनश्रीवास्तवनेबतायाकिरामकथामेंप्रतिदिनपंडितकिरनकुमारपाण्डेयद्वाराकथासुनाईजाएगी।अमितमिश्रा,अशोककुमार,दिवाकर,अम्ब्रीशमिश्रा,शंकरयादव,रामचरन,शत्रुजीत,फूलचंद,रामसुभाषआदिउपस्थितरहे।