लखीसराय।बड़हियाप्रखंडकेगंगासरायस्थितमहवीरमंदिरपरिसरमेंगुरुपूर्णिमाकेपवित्रअवसरपरशनिवारकोनयामंदिरनिर्माणकेलिएभूमिपूजन,हवनएवंशिलान्यासकियागया।इसमौकेपरअधिवक्ताचंद्रमौलेश्वरसिंहकीअध्यक्षतामेंगंगासरायकेप्रवासीशंभुनाथअग्रवालएवंउनकीपत्नीतारादेवीअग्रवालकेकरकमलोंसेआचार्यरामविलासपाठकनेविधिविधानपूर्वकभूमिपूजनएवंशिलान्यासकरवाया।शंभुनाथअग्रवालकेपूर्वज70वर्षपूर्वगंगासरायबाजारमेंरहकरव्यवसायकरतेथे।उसकेबादपरिवारसहितवेमुजफ्फरपुरएवंदरभंगामेंजाकरबसगए।वहांबसजानेकेबावजूदमहावीरमंदिरगंगासरायसेउनकाजुड़ावकायमहै।वेबीच-बीचमेंयहांआतेरहतेहै।शंभुनाथअग्रवालकेस्वजनजस्सीलालअग्रवालनेलगभग70वर्षपूर्वमहावीरमंदिरगंगासरायकानिर्माणकरायाथा।जबकिमहावीरजीकीप्रतिमाकीप्राणप्रतिष्ठाउनकेपिताकैलाशप्रसादअग्रवालनेकरायाथा।बादमंदिरजीर्णशीर्णहोगया।सड़कनिर्माणकेबादमंदिरकाफीनीचेहोगया।इसकारणबरसातकापानीमंदिरप्रांगणमेंप्रवेशकरजाताथा।मंदिरकेनवनिर्माणकोलेकर14जुलाईकोग्रामीणोंकीएकबैठकहुईथीजिसमेसर्वसम्मतिसेनिर्णयलियागयाथाकिमंदिरकानवनिर्माणकरायाजाए।ग्रामीणोंकीबैठकमेंशंभुनाथअग्रवालनेभीभागलियाथा।इसअवसरपरपुजारीनंदकिशोरपांडेय,सुशीलकुमारअग्रवाल,नरेशकुमारअग्रवाल,सुनीताअग्रवाल,रंजनाअग्रवाल,श्रीनिवासपहलवान,उमासिंह,अनिलसिंह,अशोककुमारसिंह,जिक्षासिंह,दीपककुमार,रामनुजनसिंह,श्यामकिशोरसिंह,रामदेवदास,श्यामकिशोरीसिंह,बौआसिंह,गोपालकुमार,मोहनकुमारसिंह,राजूपंडित,दिवाकरनारायणशर्मा,प्रकाशसाव,भोलाकुमारआदिमौजूदथे।