मुंबई.जिसतरहबंगालमेंदुर्गापूजाकीधूमरहतीहै.उसीतरहसेमहाराष्ट्रमेंगणेशउत्सवकोमनायाजाताहै.इसउत्सवकोदेखनेकेलिएहरसालबड़ीसंख्यामेंदेश-विदेशसेभक्तआतेहैं.इसपावनअवसरपरमहाराष्ट्रकाकोना-कोनाभगवानश्रीगणेशकीभक्तिमेंसराबोरहोजाताहै. गणेशउत्सवकेदौरानमहाराष्ट्रकेअष्टविनायकमंदिरोंकामहत्वऔरभीबढ़जाताहै. भगवानगणेशकीयहआठऐसीमूर्तियोंजोस्वयंभूमानीजातीहैं.

यह आठअतिप्राचीनमंदिर भगवानगणेशकेआठशक्तिपीठभी कहलातेहैं. इनमंदिरोंकापौराणिकमहत्वऔरइतिहासहै. इसकीचर्चागणेशऔरमुद्गलपुराणमेंकियागयाहै,जोहिन्दूधर्मकेपवित्रग्रंथोंकासमूहमेंकियागयाहै. कहाजाताहैकिइसमंदिरमेंआनेमात्रसेमनमेंचलरहीउथल-पुथलऔररिश्तोंकीकटुताऔरकड़वाहटखत्महोजातीहै.यहांआनेकेबादभक्तकेमनकोशांतिप्राप्तहोतीहै.

अष्टविनायककाएकरूपहैगिरिजात्मज.कहाजाताहैगिरिजात्मजकामतलबहैकिमांपार्वतीकापुत्र.भगवानगिरिजात्मजभक्तोंकेदुखोंकोहरनेकेसाथमनोकामनापूर्णकरतेहैं.इसमंदिरकोपर्वतकोकाटकरकरबनायागयाहै.इसमंदिरमेंकुलआठगुफाएंहैं.इसमेंआठवेगुफामेंभगवानगिरिजात्मजकीमनमोहकमूर्तिहै.इसमंदिरमेंदर्शनकेलिएभक्तोंको300सीढ़ियांचढ़नीपड़तीहैं.वहींगिरिजात्मजभगवानकीमूर्तिकीसूंड़काआकारअलगहै.

यहांहैश्रीगिरिजात्मजकामंदिर

गिरिजात्मजअष्टविनायककायहमंदिरपुणेकेलेण्याद्रीगांवमेंस्थितहैं.दर्शनकरनेकेलिएजानेवालेभक्तोंकोपुणे-नासिकराजमार्गसेजासकतेहैंजोपुणेसेकरीब10किलोमीटरदूरीपरस्थितहै.वहांलेन्यादरीपहाड़पर18बौद्धगुफाएंहैं.इन्ही18गुफाओंमेंसे8वेनंबरकीगुफामेंश्रीगिरिजात्मजकीमंदिरहै.