इंदौरकेखजरानागणेशमंदिरऔररणजीतहनुमानमंदिरसेहजारोंभक्तोंकीआस्थाजुड़ीहै।रोजानाहजारोंभक्तमंदिरआकरभगवानकेदर्शनकरतेहै।सोशलमीडियाकेमाध्यमसेभीभक्तमंदिरोंसेजुड़ेहै।रविवारकोखजरानागणेशजीऔररणजीतहनुमानजीकासुंदरश्रृंगारकिया।सुबहभगवानगणेशकापंचामृतसेअभिषेककियाउन्हेंशुद्धघीऔरसिंदूरलगाया।गजाननकेसाथविराजितरिद्धि-सिद्धि,शुभ-लाभकाभीभव्यश्रृंगारकिया।लंबोदरकोगुलाबीरंगकेनएवस्त्रपहनाएगए।मंदिरकेपुजारियोंनेभगवानकीआरतीकी।फलों,मिठाईऔरनमकीनकाभोगभगवानकोअर्पितकिया।मुख्यपुजारीपंडितअशोकभट्टनेबतायाभक्तमनोकामनाकेलिएमंदिरमेंधागाबांधतेहै।मनोकामनापूरीहोनेकेबादधागाखोलनेवापसमंदिरआतेऔरभगवानकाआशीर्वादलेतेहै।

रणजीतहनुमानजीकारविवारकोआकर्षकश्रृंगारकिया।सुबहरणजीतहनुमानजीकापंचामृतसेअभिषेककियाउन्हेंतेलऔरसिंदूरकाचोलाचढ़ाया।भगवानकोलालरंगकेनएवस्त्रपहनाएगए।गुलाबकेफूलोंसेबनीमालारणजीतबाबाकोपहनाई।पेड़केपत्तोंपरचंदनसेसीता-रामलिखीपत्तोंकीमालाभीभगवानकोअर्पितकी।रणजीतहनुमानजीकेगर्भगृहकोफूलोंकीमालाओंऔररिबनसेसजायागया।भगवानकेसिंहासनकोभीविभिन्नफूलोंकीपंखुड़ियोंसेसजाया।भगवानकीआरतीकीगईउन्हेंचिरौंजी,फलोंऔरमिठाईयोंकाभोगलगाया।मंदिरकेमुख्यपुजारीपंडितदीपेशव्यासनेबतायामंदिरकीमान्यताहैकियहांभक्तोंकीमनोकामनापूरीहोतीहै।यहांदूर-दूरसेभक्तभगवानरणजीतहनुमानजीकेदर्शनकोआतेहै।