जागरणसंवाददाता,वाराणसी:अखंडभारतकीआजादीकेमहानायकनेताजीसुभाषचंद्रबोसकीजयंतीपरइंद्रेशनगर,लमहीके'सुभाषभवन'मेंविशालभारतसंस्थानद्वाराशुक्रवारकोतीनदिवसीय'सुभाषमहोत्सव'काशुभारंभहुआ।

पहलेदिन'इतिहासकीअदालतमेंसुभाष'विषयकराष्ट्रीयसंगोष्ठीमेंमुख्यअतिथिआरएसएसकेअखिलभारतीयकार्यकारिणीसदस्यइंद्रेशकुमारनेकहाकिसुभाषदेशकेविभाजनकेविरोधीथे।वेअंग्रेजोंकीचालसेकाग्रेसकेनेताओंकोपहलेहीअवगतकराचुकेथे।दुनियाभरमेंअंग्रेजोंकेविरुद्धनसिर्फमोर्चाखोला,बल्किउन्हेंकूटनीतिकस्तरपरभीघेरा।अगरकाग्रेसीनेताओंनेसुभाषबाबूकासाथदियाहोतातोदेशभीआजादहोजाताऔरविभाजनभीनहींहोता।सुभाषवादीविचारकतपनघोषनेकहाकिसुभाषबाबूनेआजादीकीलड़ाईकेदौरानहीभारतकेनवनिर्माणकीनीतिभीतयकरलीथी।इतिहासकारप्रो.अशोककुमारसिंहनेकहाकिइतिहासकीअदालतहमेशान्यायकरतीहै।इतिहासकीअदालतमेंसुभाषहीअखंडभारतकेमहानायकहैं।डा.राजीवश्रीवास्तवनेकहाकिभारतकेप्रथमप्रधानमंत्रीकेरूपमेंसुभाषचंद्रबोसकानामअंकितहोनाचाहिए।आजादहिदबटालियनकीसेनापतिदक्षिताभारतवंशीनेअपनीबालटुकड़ीकेसाथनेताजीसुभाषकीप्रतिमाकोसलामीदी।विश्वकीपहलीनिर्वाचितबालसंसदकीस्पीकरखुशीरमनभारतवंशीकोदुनियाभरकेवंचितबच्चोंकेअधिकारोंकीआवाजबुलंदकरनेएवंसुभाषकेविचारोंकोजन-जनतकपहुंचानेकेलिएनेताजीसुभाषचंद्रबोसराष्ट्रीयबालअधिकारसंरक्षणपुरस्कार-2021सेसम्मानितकियागया।अध्यक्षताचट्टोबाबानेकी।संचालनअर्चनाभारतवंशीऔरधन्यवादज्ञापनडा.निरंजनश्रीवास्तवनेदिया।आध्यात्मिकगुरुचून्नुसाई,प्रो.एसपीसिंह,डा.मुकेशप्रतापसिंह,मो.अजहरुद्दीन,दिलीपसिंह,आत्मप्रकाशसिंह,नाजनीनअंसारी,नजमापरवीन,धनंजययादव,सुधाशुसिंह,रमन,दीपक,धर्मेंद्रनारायण,रोहित,अशोक,प्रिंसउपाध्याय,अभिषेकसिंहथे।