जागरणसंवाददाता,श्रीनगरगढ़वाल:शैलनटनाट्यसंस्थाकीहास्यव्यंग्यसेभरपूरनाट्यप्रस्तुति'खाडूलापता'नेदर्शकोंकाखूबमनोरंजनकिया।कमलेश्वरकेमांवेडिगप्वाइंटसभागारमेंमंचितललितमोहनथपलियालकेलिखितइसनाटककानिर्देशनपंकजनैथानीनेकिया।

इसगढ़वालीहास्यनाटककाउद्घाटनमुख्यअतिथिनगरपालिकाअध्यक्षपूनमतिवाड़ीनेकिया।कथानककेअनुसारगांवकेगुस्सैलव्यक्तिहरिसिंहकाखाडू(बकरा)खोजानेपरवहवैद्यराजसेपूछताछकरताहै।वैद्यराजकेखाडूकेनहींमिलनेकीबातकहनेपरहरिसिंहकोजबखूनसेसनीदरांतीकेसाथदेखातोगांवकेलोगोंनेसमझाइसनेखाडूचोरीकेशकमेंकिसीकाखूनकरदियाहै।बादमेंपताचलाकिखाडूतोउसीकेकमरेमेंछिपाहुआथाऔरउसनेदोदोंणसट्टीभीखालीथी,जिसपरगुस्सैलहरिसिंहनेदरांतीसेउसेमारदिया।वैद्यराजबनेकलाकारअभिषेकबहुगुणाऔरहरिसिंहकीभूमिकामेंशशांकजमलोकी,तुलसीरामबनेउमंगखुगशालकेअभिनयकोदर्शकोंनेखूबसराहा।अंकितरावत,काजलमेहरा,उमंगखुगशाल,अर्जुन,अंकिता,रश्मि,मधु,मोनिका,आदित्यकेअभिनयकीभीप्रशंसाकीगई।इससेपहलेमुख्यअतिथिवनगरपालिकाअध्यक्षपूनमतिवाड़ीनेइसनाट्यप्रस्तुतिकाउद्घाटनकिया।इसमौकेपरविशिष्टअतिथिकेतौरपरपूर्वविधायकगणेशगोदियाल,भाजपाश्रीनगरमंडलअध्यक्षगिरीशपैन्यूलीकेअलावावरिष्ठरंगकर्मीविमलप्रसादबहुगुणा,मनोजउनियाल,महेशगिरी,जयकृष्णपैन्यूली,प्रकाशचमोली,हेमचंद्रममगार्इं,देवेंद्रउनियाल,प्रशांत,अक्षांश,प्रियंकाबिष्टआदिमौजूदथे।