संवादसूत्र,फाजिल्का:कोरोनाकीदूसरीलहरकेदौरानएकबारफिरसेकईवर्गोकोआर्थिकतंगीकासामनाकरनापड़रहाहै।हालांकिअबसरकारधीरे-धीरेफिरसेसबकुछशुरूकररहीहै।लेकिनअभीभीकईवर्गऐसेहैं,जोकिआर्थिकतंगीसेकाफीपरेशानहैं।इनमेंनिजीतौरपरटैक्सीचलानेवालेमालिकोंऔरचालकोंकोभीभारीआर्थिकबोझउठानापड़रहाहै।जिसकेचलतेपंजाबटैक्सीआपरेटरयूनियनजिलाफाजिल्काद्वाराडिप्टीकमिश्नरऔरफाजिल्काकेविधायकदविदरघुबायाकोएकमांगपत्रसौंपागया।यूनियनकेजिलाप्रधानकृष्णलालगर्ग,घुबायास्टैंडकेप्रधानजगदीशसिंह,लाधुकाकेप्रधानइकबालसिंहनेबतायाकिकोरोनाकीवजहसेउनकाभीकामकाजठप्पहोचुकाहै।जिसकेचलतेवहआर्थिकतंगीकासंतापझेलरहेहैंऔरउन्हेंकईप्रकारकीमुश्किलोंकासामनाकरनापड़रहाहै।उन्होंनेपंजाबसरकारसेमांगकरतेकहाकिहरटैक्सीचालककोसरबतस्वास्थ्यबीमाकेसाथजोड़ाजाए।पूरेपंजाबमेंपीकडोपऔरवनडेपरकामकरनेपररोकलगाईजाएपूरीक्षमताकेसाथसवारियांबिठानेकीआज्ञादीजाए।टैक्सीयूनियनकेनेताओंनेकहाकिकिराएमेंकैटागरीवाइजविस्तारकियाजाए,हरजिलेमेंटैक्सीस्टैंडकेलिएजगहअलाटकीजाए।उन्होंनेकहाकिउनकोहरमहीनेकमसेकम10हजाररुपयेकीआर्थिकमददकीजाए।

इसमौकेसंदीपसिंह,अमरजीतसिंह,रणजीतसिंह,कुलविदरसिंह,सत्ता,लेख,पूरनसिंहऔरअन्ययूनियनकेअन्यसदस्यभीउपस्थितथे।