लुधियाना,जेएनएन।श्रीअकालतख्तसाहिबकेजत्थेदारज्ञानीहरप्रीतसिंहनेकहाकिबाबाजसवंतसिंहजैसीपवित्ररूहदुनियामेंकभीकभारहीजन्मलेतीहै।उन्होंनेसिखधर्मकेप्रचारप्रसारकेलिएजोसेवाएंकीहै,उसेधार्मिकक्षेत्रमेंहमेशायादरखाजाएगा।इतनाहीनहींउनकेद्वारामेडिकलशिक्षाकेलिएकिएगएप्रयासोंकोहमेशायादरखाजाएगा।वेसमरालाचौकस्थितगुरुद्वारानानकसरकेसंतबाबाजसवंतसिंहकीयादमेंरखेश्रीअखंडपाठकीसमाप्तिपरश्रद्धांजलिभेंटकरनेकेबादसंगतकोसंबोधितकररहेथे।

उन्होंनेगुरुद्वारासाहिबकेमुख्यसेवादारडा.अनहदराजसिंहकोकहाकिवहबाबाजसवंतसिंहकीधार्मिकऔरसामाजिकसेवाओंकोनिरंतरजारीरखें।उन्होंनेकहाकिअमृतसंचारकीलहरकोऔरप्रचंडकियाजाए,ताकियुवापीढ़ीकोधर्मकेसाथजोड़ाजासके।समागममेंभाईपिंदरपालसिंहनेगुरमतविचारोंसेसंगतकोजोड़ा।तख्तश्रीकेशगढ़साहिबकेजत्थेदारज्ञानीरघबीरसिंह,श्रीअकालतख्तसाहिबकेपूर्वजत्थेदारज्ञानीजोगिंदरसिंहवेदांती,श्रीहरिमंदिरसाहिबकेपूर्वहेडग्रंथीज्ञानीजसविंदरसिंहनेभीबाबाजसंवतसिंहकीधर्मऔरसमाजकेप्रतिसेवाओंकीसराहनाकी।भविष्यमेंभीगुरमतसमागमोंकीपरंपराकोजारीरखनेकीअपीलकी।इसमौकेपरसिंहसाहिबऔरसंतमहापुरुषोंनेगुरुद्वारानानकसरकेमुख्यसेवादारडा.अनहदराजसिंहकोदस्तारभेंटकी।

डेंटलकालेजआफइंडियाकेसदस्यडा.सचिनदेवमेहतानेसंगतकोबतायाकिबाबाजसवंतसिंहडेंटलकालेजसिर्फपंजाबहीनहीं,पूरेभारतमेंख्यातिपाचुकाहै।देशकेप्रमुखदसडेंटलकालेजमेंशामिलहोनेकेकारणस्टूडेंट्सइसमेंदाखिलापानेकीलिएप्रयासरतरहतेहैं।इसमौकेपरपंजाबकेजानेमानेरागीकरनैलसिंह,सतिंदरबीरसिंह,जुझारसिंह,गगनदीपसिंह,अनहदराजसिंह,गुरचरणसिंहरसिया,जोगिंदरसिंहरिआड़,दविंदरसिंहसोढी,मनजीतसिंह,रामसिंह,त्रिलोकसिंह,मनजीतसिंह,बलप्रीतसिंह,पंथप्रीतसिंह,बलजीतसिंहनेकीर्तनसेसंगतकोनिहालकिया।