गर्भवतीवधात्रीकोप्रधानमंत्रीमातृवंदनायोजनाकालाभलेनेकेलिएअबभागदौड़करनेकीजरूरतनहींहोगी।कोईभीगर्भवतीवधात्रीघरबैठेहीअपनेमोबाइलपरउमंगएपडाउनलोडकरसेल्फरजिस्ट्रेशनआप्शनकेजरिएयोजनाकेलिएआवेदनकरसकेगी।यहआवेदनसीधेस्थानीयसामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रकेअधीक्षककेपासपहुंचेगा।आशाकोलाभार्थीकेघरभेजकरउसकेमूलआवेदनपत्र,टीकाकरणकार्डवआधारकार्ड,बैंकखातानंबरवमोबाइलनंबरसमेतअन्यकागजमंगवालेंगे।आशासारेजरूरीकागजातलाकरब्लाकस्थितसामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रपरदेगीजहांपहलेसेतैनातकंप्यूटरआपरेटरआशा,एएनएमवलाभार्थीसेजानकारीलेकरउसेयोजनाकालाभदिलाएंगी।जिलाकार्यक्रमसहायकपुनीतमणित्रिपाठीनेबतायाकिमातृवंदनामेंमहिलाओंकोअलग-अलगकिस्तोंमेंपांचहजाररुपयेमिलतेहैं।साथहीजननीसुरक्षायोजनाकालाभभीमिलताहै।इससेशहरकीप्रसूता6000वग्रामीणक्षेत्रकीप्रसूताकोअलग-अलगकिस्तोंमें6400रुपयेमिलजातेहैं।लक्ष्यसेअधिकउपलब्धि:

तीनमाहकीगर्भवतीहोतेहीमातृवंदनायोजनाकीपहलीकिस्तएकहजाररुपयेमिलजातीहै।छहमहीनेकीगर्भावस्थायाकमसेकमएकप्रसवपूर्वजांचकेबाददूसरीकिस्त2000मिलतीहै।तीसरीकिस्त2000तबमिलतीहैजबबच्चेकाजन्मपंजीकृतहोजाताहै।साथहीउसेबीसीजी,ओपीवी,डीपीटीवहेपेटाइटिस-बीकाटीकालगादियाजाताहै।इसमेंबच्चेकाजन्मप्रमाणपत्र,टीकाकरण,पति-पत्नीकादोनोंकाआधारकार्डदेनाहोताहै।मुख्यचिकित्साधिकारीडा.सुशीलकुमारनेबतायाकिवर्तमानवित्तीयवर्षमें3.82करोड़रुपयेकाभुगतानकियागयाहै।यहीनहीं2017सेअबतकपहलीबारमांबनी60449महिलाओंको25.39करोड़रुपयेकाभुगतानदेकर102प्रतिशतउपलब्धिप्राप्तकीजाचुकीहैजोजिलेकेलिएसुखदहै।