नयीदिल्ली,26अप्रैल(भाषा)सीबीआईनेउत्तरप्रदेशकेमुख्यमंत्रीकेतौरपरमायावतीकेकार्यकालकेदौरान21सरकारीचीनीमिलोंकीबिक्रीमेंहुईकथितअनियमितताकीजांचशुरूकीहै,जिससेबसपासुप्रीमोकीमुश्किलेंबढ़सकतीहैं।अधिकारियोंनेबतायाकि2011-12मेंमायावतीकेकार्यकालकेदौरानचीनीमिलोंकीबिक्रीसेसरकारीखजानेकोकथिततौरपर1,179करोड़रुपएकानुकसानहुआथा।उन्होंनेकहाकिसीबीआईनेकथितअनियमितताओंकीजांचकेलिएएकप्राथमिकीदर्जकीहैऔरछहप्रारंभिकजांच(पीई)शुरूकीहै।उत्तरप्रदेशमेंयोगीआदित्यनाथकीअगुवाईवालीभाजपासरकारनेपिछलेसाल12अप्रैलकोइसमामलेमेंसीबीआईजांचकरानेकीसिफारिशकीथी।अधिकारियोंनेबतायाकिजांचएजेंसीनेइसमामलेमेंउत्तरप्रदेशसरकारकेकिसीअधिकारीयाराज्यकेकिसीनेताकोनामजदआरोपीनहींबनायाहै।उन्होंनेकहाकिसीबीआईनेउनसातलोगोंकेखिलाफमामलादर्जकियाहै,जिन्होंनेउत्तरप्रदेशराज्यचीनीनिगमलिमिटेडकीमिलोंकीखरीदकेदौरानफर्जीदस्तावेजजमाकिएथे।अधिकारियोंकेमुताबिक,राज्यसरकारने21चीनीमिलोंकीबिक्रीऔरदेवरिया,बरेली,लक्ष्मीगंज,हरदोई,रामकोला,चिट्टौनीऔरबाराबंकीमेंबंदपड़ीसातमिलोंकीखरीदमेंफर्जीवाड़ेऔरधोखाधड़ीकीसीबीआईजांचकरानेकीमांगकीथी।लखनऊपुलिसइसमामलेकीजांचकररहीथी।ऐसेआरोपहैंकिमायावतीकीअगुवाईवालीसरकारने10चालूमिलोंसहित21मिलोंकोबाजारदरसेकमपरबेचदियाथा,जिसकेकारणसरकारीखजानेको1,179करोड़रुपएकानुकसानहुआ।