मेरठ,जेएनएन।मंदिरसेमूर्तियांगायबहोनेपरश्रद्धालुओंमेंआक्रोशफैलगया।जानकारीपरबड़ीसंख्यामेंलोगएकत्रहोगए।उन्होंनेपुजारीपरआरोपलगातेहुएपुलिससेशिकायतकी।कहाकिएकदिनपहलेतकमंदिरमेंमूर्तियांरखीथीं।उधर,जबशामकोमहिलाश्रद्धालुपूजाकरनेपहुंचीतोमूर्तिगायबदेखकरउनकेआंसूछलकगए।

लिसाड़ीगेटथानाक्षेत्रकेप्रहलादनगरनिवासीएकव्यक्तिनेकरीबपांचसालपहलेअपनेमकानकेनिचलेहिस्सेमेंमांकालीकीमूर्तिरखकरपूजा-अर्चनाशुरूकीथी।आसपासकेलोगभीआनेलगेथे।इसकेबादसभीकेसहयोगसेमकानकेनिचलेहिस्सेकोमंदिरमेंपरिवर्तितकरमांकाली,भैरवऔरहनुमानकीप्राणप्रतिष्ठाधूमधामसेकीगईथी।तभीसेमंदिरमेंशामकोरोजानाकीर्तनकेबादआरतीहोतीथी।मंगलवारकोजबश्रद्धालुपहुंचेतोमूर्तियांगायबथीं।मकानमालिक/पुजारीभीनहींथा।इसकीजानकारीपरआसपासकेलोगबड़ीसंख्यामेंएकत्रहोगए।उन्होंनेपुजारीकोकाफीतलाशकिया,लेकिनकहींपतानहींचला।उसकामोबाइलफोनभीबंदआया।श्रद्धालुओंनेआरोपलगायाकिपुजारीहीमूर्तिलेकरचलागया।उन्होंनेपुलिससेशिकायतकी।सीओअरविदचौरसियानेबतायाकिअभीतकमामलेमेंतहरीरनहींमिलीहै।

50लाखकालोनऔरलाखोंकेजेवर

श्रद्धालुओंनेबतायाकिपुजारीनेमंदिरकेनामपर50लाखरुपयेकालोनहालहीमेंलियाथा।इसकेअलावाअन्यमूर्तियोंपरलाखोंरुपयेकेजेवरभीथे।स्थानीयलोगोंनेपूर्वमेंदोपुजारियोंकोरखाथा,लेकिनआरोपितनेउनकोभगादियाथा।मंदिरकीकभीकमेटीभीनहींबननेदीथी।दान-पात्रकोभीअपनेकब्जेमेंकियाहुआथा।