राजकुमारराजू,मोगा

मोगाशहरमेंजन्मलेनेवालेफादरआफआप्टिकलफाइबरकेबलनरिदरसिंहकपानीकोजिलेकेअंतर्गतगांवघल्लकलांकेमंजीतसिंहनेअपनेअंदाजमेंश्रद्धांजलिदीहै।बतादेंकिमंजीतसिंहदुनियाकीतमामबड़ीगुजरचुकीहस्तियोंकेजीवंतप्रतिमातैयारकरउन्हेंकलाकारकेअंदाजमेंश्रद्धाजंलिदेचुकेहैं।हालांकिमंजीतसिंहनेकपानीकीप्रतिमापहलेहीतैयारकरलीथी।शुक्रवारकोजैसेहीमंजीतसिंहकोकपानीकेनिधनकीसूचनामिली,तोउन्होंनेप्रतिमाकेसाथबड़ेहीभावपूर्णअंदाजमेंफोटोइंटरनेटमीडयापरवायरलकरकंपानीकोअपनेअंदाजमेंश्रद्धाजंलिभेंटकी।

गांवघल्लकलांनिवासीमूर्तिशिल्पकारमंजीतसिंहगिलकाकहनाहैकिमोगाकेजन्मेफाइबरआप्टिकलकेबलकेजन्मदातानरिदरसिंहकपानीकेनिधनकीसूचनामिलनेपरउनकादिलभरआया।उन्हेंदुखइसबातकाभीहैकिदुनियाकीइतनीबड़ीहस्तीकोउनकाअपनाहीशहरभूलबैठाहै।

डेढ़माहमेंबनीप्रतिमा

मंजीतसिंहकाकहनाहैकिउनकोजबपताचलाथाकिफाइबरआप्टिकलकेबलकेजन्मदाताकपानीमोगाजिलेकेहीहैं,तभीउन्होंनेकपानीकीप्रतिमातैयारकरनेकीठानलीथी।डेढ़महीनेपहलेउन्होंनेब्राससेनरिदरसिंहकपानीकीप्रतिमातैयारकीथी।

अबतकबनाचुके40सेज्यादाप्रतिमा

मंजीतसिंहनेइससेपहले1986मेंहाईजैकहुएफ्लाइटयात्रियोंकोबचातेहुएखुदशहीदहुईचंडीगढ़कीबहादुरएयरहोस्टेजनीरजाभनोटकीप्रतिमाभीबनाईथी।येप्रतिमागांवघल्लकलांमेंहीबनेउनकेदेशभक्तपार्कमेंलगीहै।इसकेअलावाभारतकेपूर्वराष्ट्रपतिएपीजेअब्दुलकलाम,अल्बर्टआइंस्टीन,धावकमिल्खासिंह,जरनलहरबख्शसिंह,शहीदभगतसिंह,राजगुरुऔरसुखदेव,बाबाबुल्लेशाह,भगतपूरणसिंहसमेतकईशहीदोंववीरजवानोंकीप्रतिमातैयारकरवहअपनेम्यूजियमपार्कमेंस्थापितकरचुकेहैं।

तीनसालकीउम्रसेबनारहेमूर्तियां

मंजीतसिंहगिलकिसानपरिवारसेजुड़ेहैं।तीनसालकीउम्रसेवहमूर्तिशिल्पमेंजुटेहुएहैं।चंडीगढ़मेंपोस्टग्रेजुएटकरनेकेबादपंजाबसरकारकेपुरातत्ववअजायबघरविभागमेंडायरेक्टरकेपदपरतैनातथे।मगर,उनकाकलाकारमनसरकारीव्यवस्थामेंनहींलगा।वहअपनापदछोड़करवापसगांवआएऔरयहांउन्होंनेम्यूजियमपार्ककीस्थापनाकरदुनियाभरकीहस्तियोंकीप्रतिमातैयारकरस्थापितकिएहैं।