जागरणसंवाददाता,बरनाला

हंडिआयारोडपरस्थितम्यूजिकएंपायरस्टूडियोमेंशनिवारकोप्रसिद्धलेखकवफिल्मनिर्देशकअमरदीपसिंहगिलकीपुस्तकजोरादसनंबरियाकालोकार्पणकियागया।लेखकअमरदीपसिंहगिलनेबतायाकियहपुस्तकपंजाबीकीचर्चितफिल्मजोरादसनंबरियाकीस्क्रिप्टडायलॉगपरआधारितपुस्तकहै।पंजाबीपाठकोंकीझोलीयहपहलीपुस्तकहैजिसेफिल्मस्क्रिप्टमेंलिखागयाहै।लेखकनेबतायाकियुवक-युवतियांलेखककईबारउनसेयहसवालकरतेथेकिफिल्मकैसेलिखतेहैंक्याइसकीकोईपुस्तकआतीहै।जिसेपढ़करफिल्मलिखनेकीप्रक्रियासेवहअवगतहोसकें।उनकीमांगकोपूराकरतेहुएइसपुस्त्ककाविमोचनकियागयाहै।उन्होंनेबतायाकियहपुस्तकराष्ट्रीययौद्धासंदीपसिंहदीपसिद्धूकेजन्मदिवसपरकरवाएप्रभावशालीप्रोग्रामदौरानलोकार्पणहुईहै।इससमयम्यू•ाकिएंपायरस्टूडियोकेएमडीपालसिद्धू,निर्देशकयशभुल्लर,फिल्मीलेखकजतिदरजीतसिंहवप्रसिद्धगीतकारमनप्रीतटिवाणाआदियुवाओंद्वारारक्तदानकैंपलगायागया।बठिडासेपहुंचीडाक्टरोंकीटीमनेरक्तदानकैंपमें40रक्तदानियोंकारक्तएकत्रितकिया।रक्तदानियोंकोम्यूजिकएंपायरस्टूडियोद्वारारिफ्रेशमेंटभीदीगई।फिल्मकेलेखकवनिर्देशकअमरदीपसिंहगिलनेपुस्तकरिली•ाकीवरक्तदानियोंकोसर्टिफिकेटदेकरसम्मानितकिया।पुस्तकजोरादसनंबरियाकोप्रकाशितकरनेवालेसाहिबदीपपब्लिककेशनभीखीद्वारापुस्तकोंकीस्टाललगाईगई।पुस्तककेलेखकअमरदीपसिंहगिलनेकहाकिउनकायहपुस्तकप्रकाशितकरनेकाप्रोजेक्टदीपसिद्धूकेजीवितहोनेकेसमयसेहीचलरहाथा।उन्होंनेभरेमनसेकहाकिदीपसिद्धूकीमौतकेबादउन्हेंकिताबमेंकुछबदलावकरनापड़े।उन्होंनेफिल्मजोरा-टूसंबंधीपूछेसवालकेपरकहाकिवहजोरा-टूकभीनहींबनाएंगेक्योंकिजोराकानायकदीपसिद्धूहीथाववहीरहेगा,कोईओरउसकीजगहनहींलेसकता।उन्होंनेवारसपंजाबदेसंगठनसंबंधीकहाकिवहसंगठनमेंशामिलनहींहैकितुसंगठनकोजबभीउनकीजरूरतहोगीवहहरतरहकीसहायतासंगठनकोकरेंगे।इसमौकेलेखकवनिर्देशकअमरदीपसिंहगिल,प्रसिद्धगीतकारमनप्रीतटिवाणा,म्यू•ाकिएंपायरदीपसिद्धू,यशभुल्लर,जतिदरजीत,प्रसिद्धगायिकासुखमनीढींडसा,हरप्रीतकौरभुल्लर,यादूभूल्लर,रतनदिड़बा,जगदेवगगड़ी,सदीकखान,इकबालसिंह,बग्गासिंह,कुलविदरसिंह,करणभीखी,रमनधीमान,आरोहधालीवाल,बिट्टूढिल्लों,हरिदरपाल,सुखदेवलद्दड़,केवलक्रांति,कमलसोहल,गुरविदरसिंहगिदर,मंडीवालादीपआदिउपस्थितथे।