संवादसहयोगी,रुद्रप्रयाग:जिलेमेंनिर्माणाधीनपेयजलयोजनाओंपरनियमितजलापूर्तिवजांचकीमांगकोलेकरजनअधिकारमंचकेअध्यक्षमोहितडिमरीनेपेयजलनिगमकार्यालयकेसम्मुखएकदिवसीयउपवासपररहे।इसदौरानकईव्यक्तियोंनेउन्हेंसमर्थनभीदिया।

मंचकेअध्यक्षडिमरीनेकहाकितल्लानागपुर,सिलगढ़औरभरदारक्षेत्रमेंपानीकासबसेबड़ासंकटहै।यहांकेलिएयोजनाएंतोबनी,लेकिनउसकालाभआजतकग्रामीणोंकोनहींमिलपायाहै।वर्ष2005-06मेंजखोलीब्लॉककेअतिपेयजलसंकटग्रस्तगांवोंकेलिएशासनसेजवाड़ी-रौंठियाऔरतैला-सिलगढ़पेयजलयोजनाएंस्वीकृतकीगईथी,लेकिनडेढ़दशकबादभीइनयोजनाओंकानिर्माणपूरानहींहोपायाहै।इससेभरदारवसिलगढ़पट्टीके30सेअधिकग्रामपंचायतोंकीहजारोंआबादीपेयजलसंकटसेजूझरहीहै।उन्होंनेयोजनाओंकानिर्माणकार्यपूराकरनेकेलिएशासनसेधनराशिस्वीकृतकरनेऔरकछुवागतिसेहोरहेकार्यकीजांचकीमांगकीहै।

जनअधिकारमंचकेसंरक्षकरमेशपहाड़ी,मगनानंदभट्ट,देवेंद्रप्रसाददरमोड़ानेकहाकिअगस्त्यमुनिब्लॉककेतल्लानागपुरक्षेत्रकेलिए32करोड़कीलागतसेबनीतल्लानागपुरपेयजलयोजनाशोपीसबनकररहगईहै।योजनासेकईगांवोंमेंआजभीनियमितजलापूर्तिनहींहोरहीहै।उन्होंनेयोजनाकीउच्चस्तरीयजांचकरनेकीमांगकी।इसअवसरपरमंचकेमहामंत्रीअशोकचौधरी,वरिष्ठनागरिककेपीढौंडियाल,देवेंद्रचमोली,भगतचौहान,वीरेंद्रनेगी,गजेंद्रभट्ट,लक्ष्मणबिजवाण,बीरबलसिंह,प्रेमसिंहपंवार,संजीवकुमार,शत्रुघ्ननेगी,राजरावत,विक्कीकप्रवानसहितकईलोगमौजूदथे।