संवादसहयोगी,रानीखेत:हाड़कंपातीसर्दीमेंभयंकरसूखेकीचपेटमेंआएपहाड़मेंजलस्रोतबेपानीहोनेलगेहैं।आलमयहहैकिसमयपरपर्याप्तबारिशनहोनेसेशरदकालमेंहीदूरदराजकेगांवोंकेबाशिंदेहलकतरकरनेकोतरसनेलगेहैं।विशेषज्ञकहतेहैं,यदिअबकीशरदकालीनवर्षाइसीतरहटलतीरहीतोफसलउत्पादनजहांबुरीतरहप्रभावितहोगा,वहींआगामीगर्मीमेंभीषणपेयजलसंकटझेलनापड़सकताहै।

ताड़ीखेतसेसटेबेतालघाटब्लॉकमेंकरीब40वर्षपुरानीबलियालीपेयजलयोजनाकास्रोतपूरीतरहसूखचुकाहै।इससेधारीखैरनीगांवकेलगभग120परिवारोंकेलिएप्यासबुझानादूभरहोगयाहै।ग्रामीणपासहीअन्यस्रोतसेजुगाड़तोकररहेलेकिनवहभीशरदकालीनवर्षाकेदगादेजानेसेबेदमहोनेलगाहै।प्रगतिशीलकिसानविशनसिंहजंतवालकेमुताबिकडेढ़दशकपूर्वतकबलियालीस्रोतग्रामीणोंकीप्यासबुझानेकेसाथहीयहांसिंचाईकेलिएभीपर्याप्तपानीदेताथा।मगरअबहालातविकटहोचलेहैं।पानीकेअभावमेंअब500सेज्यादाकीआबादीतोप्रभावितहैहीएकहजारहेक्टेयरसेअधिकखेतीपरभीसूखेकीमारपड़ीहै।

स्रोतपुनर्जीवितकरनेकोबनेनीति

धारीखैरनीगांवमेंबैठकमेंकिसानोंनेप्राकृतिकस्रोतोंकोबचानेकेलिएठोसनीतिबनाएजानेपरजोरदिया।प्रगतिशीलकिसानविशनजंतवालनेकहा,जल्दहीप्रशासनवविभागकेसाथजनसहभागितासेअभियानचलाएजाएंगे।इसमौकेपरराजेंद्रसिंहजंतवाल,पूर्वप्रधानभगतसिंह,जगदीशसिंह,हेमंतसिंह,गणेशसिंह,सुनीतादेवी,राधिकादेवी,खुशालसिंह,हरीशराम,भूपालराम,भूपालसिंह,शेरसिंह,चंदनसिंहआदिमौजूदरहे।

रीचीथापलयोजनाकास्रोतभीसूखा

ताड़ीखेतब्लॉकमेंभीकोसीसेजुड़ीरीचीथापलपेयजलयोजनाकास्रोतदमतोड़गयाहै।इसकारखरखावनैनीतालडिवीजनकरताहै।इसयोजनापरनिर्भरमटेला,म्यू,मुसोली,लोधियाखान,हिड़ाम,बयेड़ी,बलियाली,सौलावगुमटागांवमेंपेयजलकेलिएत्राहित्राहिमचीहै।बयेड़ीगांवकेप्रगतिशीलकिसानपूरनचंद्रपांडेनेकहाकिइससंबंधमेंसोमवारकोशिष्टमंडलआयुक्तराजीवरौतेलासेमिलसमस्यारखेगा।