जागरणसंवाददाता,जालंधर:पहलीसेलेकरदसवींकक्षातकपंजाबीविषयकोअनिवार्यकरनेकेफैसलेकाजिलेकेसिखसंगठनोंनेस्वागतकियाहै।सोमवारकोआयोजितबैठककेदौरानसिखोंकीप्रमुखसंस्थासिखतालमेलकमेटीकेप्रमुखतेजिदरसिंहपरदेसी,हरपालसिंहचड्ढा,हरप्रीतसिंहनीटू,हरजोतसिंहलक्की,सतपालसिंहसिद्दकी,गुरविदरसिंहसिद्धूवविक्कीखालसानेकहाकिपंजाबसरकारनेपंजाबीभाषाकोलागूकरनेकेसाथहीइसफैसलेकीअवहेलनाकरनेपरजुर्मानेकाप्रावधाननिर्धारितकरकेसराहनीयफैसलालियाहै।

उन्होंनेकहाकिपंजाबमेंपंजाबीवपंजाबियतकोजीवितरखनेकीखासजरूरतहै।पश्चिमीसभ्यताकेहावीहोनेकेचलतेपंजाबकेयुवापथसेभटकरहेहैं।ऐसेमेंउन्हेंपंजाबकीमिट्टीसेजोड़ेरखनेकेलिएपंजाबकेसभ्याचारऔरभाषाकोबचानाबहुतजरूरीहै।इसअवसरपरहरप्रीतसिंहसोनू,गुरजीतसिंहसतनामियां,हरपालसिंहपालीचड्ढा,गुरदीपसिंहलक्की,लखबीरसिंहलक्की,मनमिदरसिंहभाटिया,गुरविदरसिंहनागी,हरप्रीतरोबिन,अमनदीपसिंहबग्गा,प्रभजोतसिंहखालसा,जितेंद्रसिंहकोहली,हरजीतसिंहबाबा,सरबजीतसिंहकालड़ा,मनजीतसिंहविक्की,कुलदीपसिंहविरदी,बलविदरसिंहबाबा,अभिषेकसिंह,नवजोतसिंह,हरविदरसिंहचितकारा,अरविदरसिंहबबलू,तेजिदरसिंहसंतनगरवकमलजीतजोनीमौजूदरहे।