संवादसहयोगी,चंबा:श्रीगुरुरविदासकी643वींजयंतीकेउपलक्ष्यमेंरविवाररातशहरकेधड़ोगमोहल्लास्थितगुरुरविदासमंदिरमेंसमारोहकाआयोजनकियागया।इसअवसरपररात्रिकीर्तनदरबारसजायागया।श्रीगुरुरविदाससभाचंबाकेवरिष्ठउपप्रधानअविनाशपालनेकहाकिरात्रिकीर्तनदरबारमेंगुरदासपुरसेभाईहरभजनसिंहवरागीजत्था,गुरुद्वाराश्रीगुरुअर्जुनदेवरागीजत्थातथादसूहाकेभाईकंवलजीतसिंहवउनकेरागीजत्थेनेअपनेअनमोलकीर्तनसेसंगतकोनिहालकिया।ऐसीलालतुझबिनकौनकरे,तोहि-मोहिमोहि-तोहिअंतरकैसा,बहुतजन्मबिछुरेथेमाधउ,एहजन्मतुम्हारेलेखे,प्रेमकीजेवरीबांधेओतेरोजन,अल्लाहपाकमपाकहैआदिशब्दगाकरमाहौलकोभक्तिमयबनादिया।समूहसंगतनेइसकार्यक्रमकेदौरानगुरुकेअनमोलवचनोंकोशब्दगायनकेमाध्यमसेश्रवणकिया।कार्यक्रममेंजिलाकांग्रेसकमेटीकेअध्यक्षनीरजनैय्यरउपस्थितरहे।गुरुरविदाससभाचंबाकेप्रधानजितेंद्रसूर्यानेनीरजनैयरवअन्यअतिथियोंकोशिरोपापहनाकरवस्मृतिचिन्हभेंटकरसम्मानितकिया।इसअवसरपरगुरुरविदाससभाकेवरिष्ठउपप्रधानअविनाश,महासचिववीरेंद्र,उपप्रधानसुदेशचंद्रा,कोषाध्यक्षनीरजहितैषी,सचिवअविनाशचंद्र,पूर्वप्रधानजितेश्वरसूर्या,कोषाध्यक्षअनूपराही,दलबीरसूर्या,राजिदरासूर्या,भूषणहितैषी,जितेंद्रकुमार,मनेशरामोत्रा,संजीवअहीर,दीपककुमार,मनेशहितैषी,अरुणडालिया,विजयकुमार,विशालकायस्थ,शिवचरणचंद्रा,तरलोकसूर्या,अजयहितैषी,अमरजीतसिंह,गुरनामसिंह,इंद्रसिंह,रविचंद्रा,चरनजीतसिंह,राजूगाइड,रितेशकुमार,ग्रंथीहरविद्रसिंहतथाअमृतादेवीउपस्थितरहे।