इतिहासकीबातकरेंतोमानाजाताहैकिसाल1528मेंअयोध्यामेंएकऐसीजगहपरमस्जिदकानिर्माणकियागया,जिसेहिंदूभगवानश्रीरामकाजन्मस्थानमानतेहैं।कहाजाताहैकिमस्जिदमुगलबादशाहबाबरकेसेना‍पतिमीरबाकीनेबाबरकेसम्मानमेंबनवाईथी,जिसकीवजहसेइसेबाबरीमस्जिदकहाजानेलगा।आजहमआपकोबतारहेहैंराममंदिरमुद्देसेजुड़ीसभीखासबातें...तारीखोंमेंअयोध्याविवाद1853:हिंदुओंनेआरोपलगायाकिभगवानरामकेमंदिरकोतोड़करमस्जिदकानिर्माणहुआ।इसमुद्देपरहिंदुओंऔरमुसलमानोंकेबीचपहलीहिंसाहुई।1859:अंग्रेजसरकारनेतारोंकीएकबाड़खड़ीकरकेविवादितभूमिकेआंतरिकऔरबाहरीपरिसरमेंमुस्लिमोंऔरहिदुओंकोअलग-अलगप्रार्थनाओंकीइजाजतदेदी।1885:अयोध्यामामलापहलीबारअदालतमेंपहुंचा।महंतरघुबरदासनेफैजाबादअदालतमेंबाबरीमस्जिदसेलगेएकराममंदिरकेनिर्माणकीइजाजतकेलिएअपीलदायरकी।23दिसंबर1949:भगवानरामकीमूर्तियांइसविवादितमस्जिदमेंपाईगईं।हिंदुओंकाकहनाथाकिभगवानरामप्रकटहुएहैं,जबकिमुस्लिमोंनेआरोपलगायाकियहांपरकिसीनेमूर्तियांरखीहैं।16जनवरी1950:गोपालसिंहविशारदनेफैजाबादअदालतमेंएकअपीलदायरकररामललाकीपूजा-अर्चनाकीविशेषइजाजतमांगी।उन्होंनेवहांसेमूर्तिहटानेपरन्यायिकरोककीभीमांगकी।5दिसंबर1950:महंतपरमहंसरामचंद्रदासनेहिंदूप्रार्थनाएंजारीरखनेऔरबाबरीमस्जिदमेंराममूर्तिकोरखनेकेलिएमुकदमादायरकिया।मस्जिदको‘ढांचा’नामदियागया।17दिसंबर1959:निर्मोहीअखाड़ानेविवादितस्थलहस्तांतरितकरनेकेलिएमुकदमादायरकिया।18दिसंबर1961:उत्तरप्रदेशसुन्नीवक्फबोर्डनेबाबरीमस्जिदकेमालिकानाहककेलिएमुकदमादायरकिया।1984:विश्वहिंदूपरिषद(वीएचपी)नेबाबरीमस्जिदकेतालेखोलनेऔररामजन्मस्थानकोस्वतंत्रकरानेवएकविशालमंदिरकेनिर्माणकेलिएअभियानशुरूकिया।इसकेलिएएकसमितिकागठनकियागया।1फरवरी1986:फैजाबादजिलान्यायाधीशनेविवादितस्थलपरहिदुओंकोपूजाकीइजाजतदी।तालेदोबाराखोलेगए।नाराजमुस्लिमोंनेविरोधमेंबाबरीमस्जिदऐक्शनकमिटीकागठनकिया।1जुलाई1989:भगवानरामललाविराजमाननामसेपांचवामुकदमादाखिलकियागया।9नवंबर1989:तत्कालीनप्रधानमंत्रीराजीवगांधीकीसरकारनेबाबरीमस्जिदकेनजदीकशिलान्यासकीअनुमतिदी।25सितंबर1990:बीजेपीअध्यक्षलालकृष्णआडवाणीनेगुजरातकेसोमनाथसेउत्तरप्रदेशकेअयोध्यातकरथयात्रानिकाली।इसकेबादकईजगहसांप्रदायिकदंगेभीहुए।नवंबर1990:बीजेपीअध्यक्षलालकृष्णआडवाणीकोबिहारकेसमस्तीपुरमेंगिरफ्तारकरलियागया।बीजेपीनेतत्कालीनप्रधानमंत्रीवीपीसिंहकीसरकारसेसमर्थनवापसलेलिया।सिंहनेलेफ्टसंगठनोंऔरबीजेपीकेसमर्थनसेसरकारबनाईथी।बीजेपीकेसमर्थनवापसलेनेकेबादवीपीसिंहनेइस्तीफादेदिया।अक्टूबर1991:उत्तरप्रदेशकीकल्याणसिंहसरकारनेबाबरीमस्जिदकेआस-पासकी2.77एकड़भूमिकोअपनेअधिकारमेंलेलिया।6दिसंबर1992:हजारोंकीसंख्यामेंकारसेवकोंनेअयोध्यापहुंचकरबाबरीढांचागिरादिया,जिसकेबादसांप्रदायिकदंगेहुए।जल्दबाजीमेंएकअस्थाईराममंदिरबनायागया।प्रधानमंत्रीपीवीनरसिम्हारावनेमस्जिदकेपुनर्निर्माणकावादाकिया।16दिसंबर1992:ढांचेकीतोड़-फोड़कीजिम्मेदारस्थितियोंकीजांचकेलिएएमएसलिब्रहानआयोगकागठनहुआ।जनवरी2002:प्रधानमंत्रीअटलबिहारीवाजपेयीनेअपनेकार्यालयमेंएकअयोध्याविभागशुरूकिया,जिसकाकामविवादकोसुलझानेकेलिएहिंदुओंऔरमुसलमानोंसेबातचीतकरनाथा।अप्रैल2002:अयोध्याकेविवादितस्थलपरमालिकानाहककोलेकरउच्चन्यायालयकेतीनजजोंकीपीठनेसुनवाईशुरूकी।मार्च-अगस्त2003:इलाहबादउच्चन्यायालयकेनिर्देशोंपरभारतीयपुरातत्वसर्वेक्षणनेअयोध्यामेंखुदाईकी।भारतीयपुरातत्वसर्वेक्षणकादावाथाकिमस्जिदकेनीचेमंदिरकेअवशेषहोनेकेप्रमाणमिलेहैं।मुस्लिमोंमेंइसेलेकरअलग-अलगमतथे।जुलाई2005:संदिग्धइस्लामीआतंकवादियोंनेविस्फोटकोंसेभरीएकजीपकाइस्तेमालकरतेहुएविवादितस्थलपरहमलाकिया।सुरक्षाबलोंनेपांचआतंकवादियोंकोमारगिराया।जुलाई2009:लिब्रहानआयोगनेगठनके17सालबादप्रधानमंत्रीमनमोहनसिंहकोअपनीरिपोर्टसौंपी।28सितंबर2010:सर्वोच्चन्यायालयनेइलाहबादउच्चन्यायालयकोविवादितमामलेमेंफैसलादेनेसेरोकनेवालीयाचिकाखारिजकरतेहुएफैसलेकारास्तासाफकरदिया।30सितंबर2010:इलाहाबादउच्चन्यायालयकीलखनऊपीठनेऐतिहासिकफैसलासुनाया।इसकेतहतविवादितजमीनकोतीनहिस्सोंमेंबांटादियागया।इसमेंएकहिस्साराममंदिर,दूसरासुन्नीवक्फबोर्डऔरतीसरानिर्मोहीअखाड़ेकोमिला।9मई2011:सुप्रीमकोर्टनेइलाहाबादहाईकोर्टकेफैसलेपररोकलगादी।19अप्रैल2017:सुप्रीमकोर्टनेकथिततौरपरबाबरीमस्जिदगिरानेकेलिएउकसानेवालेलालकृष्णआडवाणी,मुरलीमनोहरजोशी,उमाभारतीसहितसातनेताओंकेखिलाफआपराधिककेसचलानेकाआदेशदिया5दिसंबर2017:सुप्रीमकोर्टमेंमामलेकीसुनवाईएकबारफिरशुरूहुई।आपकोबतादेंकिइसमामलेमेंसुप्रीमकोर्टकईबारनईतारीखेंदेचुकाहै।आगामी29अक्टूबरसेएकबारफिरसुनवाईशुरूहोगी।अयोध्यामामलेमेंकुल19हजारदस्तावेजहैं।इनतमामदस्तावेजोंकोइंग्लिशमेंट्रांसलेटकियागयाहै।साथहीअदालतीबहसकीकॉपी(प्लीडिंग)पेशकीगईहै।दीवानीमामलेकीसुनवाईमेंयेदस्तावेजऔरप्लीडिंगअहमहोतेहैं।जबमामलेकीसुनवाईशुरूहोगीतोएक-एकपक्षकारअपनापक्षरखनाशुरूकरेंगे।इसदौरानमुस्लिमपक्षकारोंकास्टैंडभीअहमहोगाक्योंकिपिछलेसाल5दिसंबरकोजबसुनवाईशुरूहुईथी,तबउनकीओरसेपेशवकीलकपिलसिब्बलनेयेदलीलदीथीकियेआमजमीनविवादनहींबल्किबेहदअहममामलाहैऔरभारतीयराजनीतिपरअसररखताहै।बीजेपीकेघोषणापत्रमेंअयोध्यामेंराममंदिरबनवानेकीबातहै।