संवादसूत्र,ऊसराहार:रुद्रपुरवनस्थानपरभव्यरामजानकीमंदिरकानिर्माणहोगा।इसकेलिएजमीनकीभीपैमाइशकराकरअवैधकब्जाहटवायाजाएगा।साथहीस्वामित्वकेविवादकोसमाप्तकरनेकेलिएसमितिकागठनकियाजाएगा।मंदिरकोभव्यतादेनेकेलिएजयपुरसेनक्शाबनवाकरकारीगरोंकोबुलायाजाएगा।

ऊसराहार-सरसईनावरसड़कमार्गपरस्थितप्राचीनवनस्थानपरचलरहेस्वामित्वकेविवादऔरमंदिरकेजीर्णोद्धारऔरभवननिर्माणकेसंबंधमेंग्रामीणोंनेबैठककी।इसमौकेपररुद्रपुर,गुंदेला,ऊसराहार,दौलतपुर,नगलाभगे,चमरपुर,सरसईनावर,बहादुरपुरआदिगांवोंकेसैकड़ोंगांवोंकेलोगमौजूदथे।

बैठकमेंमुख्यअतिथिभाजपानेतामनीषयादवपतरेनेकहाकियहप्राचीनस्थानहै।सैकड़ोंवर्षसेउपेक्षितचलेआरहेइससनातनधर्मकेस्थलपरभव्यरामजानकीमंदिरकानिर्माणकरायाजाएगा।वहमंदिरनिर्माणकीजिम्मेदारीक्षेत्रीयजनताकेसहयोगसेलेनेकोतैयारहैं।इसप्राचीनस्थानकीभूमिपरकब्जाकरनेवालेदबंगोंसेभूमिकोमुक्तकराकरइसस्थानपरभव्यरामजानकीमंदिरकानिर्माणकियाजाएगा।मंडलअध्यक्षताखाराहुलराज¨सह,थानाध्यक्षयोगेंद्रशर्माआदिनेभीसहयोगप्रदानकिया।मंदिरनिर्माणकेलिएभूमिकापूजनहजारीमहादेवमंदिरकेमहंतसियारामदासकेनेतृत्वमेंमनीषयादवपतरेनेकियाऔरक्षेत्रीयलोगोसेधार्मिकसामाजिककार्यमेंसहयोगकीअपीलकी।प्रधानरामसेवक,रामऔतार,रामशंकर,शिवराज¨सह,अंकुरयादव,संजूबाबूशाक्य,रवि,मनुयादवआदिमौजूदरहे।