संवादसहयोगी,झुमरीतिलैया(कोडरमा):सदगुरुनानकप्रगट्या..,मिटीधुंधजगचाननहोआ..।सिखोंकेपहलेगुरुगुरुनानकदेवकेभजनवगुरुवाणीकेपाठसेझुमरीतिलैयागुरुद्वारारोडकामाहौलभक्तिमयहोगयाहै।

गुरुनानकदेवजीकी551वींजयंतीकोलेकरगुरुद्वाराश्रीगुरुसिंहसभामेंइनदिनोंअखंडपाठचलरहाहै।इसकीशुरुआतबुधवारकोकमलजीतसिंहद्वाराकीगईथी।शुक्रवारकोपहलेपाठकीलड़ीकीशुरुआतदिलीपसिंह,मलकीतसिंहकेद्वाराकीगई।पाठकासमापनरविवारकोहोगा।इसअवसरपरदर्जनोंसिखधर्मावलंबीउपस्थितथे।अखंडपाठकीलड़ीमेंग्रंथीभाईराजासिंह,भाईनिरंजनसिंह,भाईसुरजीतसिंहतथापटनासेआयेहिम्मतसिंहद्वाराशबदकीर्तनप्रस्तुतकियाजारहाहै।गुरुद्वारापरिसर24नवंबरसेप्रतिदिनप्रात:नगरमेंप्रभातफेरीकाआयोजनहोगाजो28नवंबरतकचलेगा।29कोनिशानसाहबकाचोलाबदलाजाएगा।जबकि30नवंबरकोटाटासेआएभाईजसपालसिंहद्वाराशबदकीर्तनप्रस्तुतकियाजाएगा।इसवर्षकोविड-19कोदेखतेहुएनगरकीर्तननहींनिकालाजाएगा।30नवंबरकोरात्रिमें1:40परप्रकाशोत्सवमनायाजाएगा।इसकेपहलेदिनमेंगुरुद्वारापरिसरमेंभव्यलंगरकाआयोजनहोगाऔररात्रिमेंप्रसादवितरणहोगा।कार्यक्रमोंकोसफलबनानेभाईयशपालसिंह,गुरमीतसिंह,रविदरसिंह,मनजीतसिंह,हरजीतसिंहसलूजा,अधिवक्तासंघकेअध्यक्षजगदीशसलूजा,गुरुभेदसिंहसिम्मी,भाईमहेंद्रसिंह,कीर्तनसिंहखनूजा,सुरेंद्रसिंहपप्पू,मनजीतसिंह,जसवीरकौरमनजीतकौर,कोमलकौर,कमलजीतकौरसहितअन्यश्रद्धालुबढ़-चढ़करभागलेरहेहैं।