जेएनएन,धूरी(संगरूर):

क्रांतिकारीपेंडूमजदूरयूनियनधूरीद्वारापंजाबसरकारकेशामलाटजमीनकोकारपोरेटघरानोंकोसौंपनेकेफैसलेकोखिलाफधूरी-लुधियानासड़कपरककड़वालचौकमेंधरनालगायागया।इसमेंसैकड़ोंकीसंख्यामेंकिसानवमजदूरशामिलहुए।धरनेकोसंबोधितकरतेहुएयूनियनकेनेतासंजीवमिटूनेकहाकिसरकारकाएकलाख57हजारएकड़शामलातजमीनकारपोरेटघराणोंकोसौंपनेकाफैसलाकिसानवदलितमजदूरविरोधीहै।यहजमीनेंगरीबकिसानों,दलितों,मजदूरोंकीरोजीरोटीकासाधनहैं।अगरजमीनउनसेछीनलीर्गइतोउनकेबच्चेभूखेमरजाएंगे।बीएडवईटीटीअध्यापकोंकेसंघर्षमेंसाथदेनेकाएलानकियागया।धरनेपश्चातनायबतहसीलदारकर्मजीतसिंहकोज्ञापनसौंपागया।

इसमौकेगुरविदरसिंह,प्रगटसिंह,राजविदरकौर,बलजीतसिंह,हाकमसिंह,अमरीकसिंह,रणजीतसिंह,बलविदरसिंह,सोनीसिंहआदिउपस्थितथे।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!