जासं,चुनार(मीरजापुर):लोकदलकेप्रदेशअध्यक्षमुलायमसिंहयादवकीसभाशिवशंकरीधाममंदिरपरिसरमेंहोनानिर्धारितथा।मीरजापुरमेंबैठककेबादमुलायमसिंहयादवशिवशंकरीधामकेमंचपरमंचासीनहोगए।तत्कालीनविधायकरहेयदुनाथसिंहकोमंचपरनहींबुलायागया।जिससेनाराजहोकरअपनेसमर्थकोंकेसाथमंचकेनीचेहीगमछाबिछाकरबैठगयेथे।उससमयसभाकासंचालनकररहेबजरंगीकुशवाहानेबतायाकिमुलायमसिंहकेलिएएकगिलासपानीलेनेमंचसेनीचेआगयातभीकिसीअन्यनेतानेसभाकासंचालनकरतेहुएसभाकोसंबोधितकरनेकेलिएमुलायमसिंहयादवकोबुलालिया।जैसेहीमुलायमसिंहयादवबोलनेकोशुरुहुएतबयदुनाथसिंहअपनेसमर्थकोंकेसाथहोहल्लाकरतेहुएमंचपरचढ़गएऔरसभामेंमुलायमसिंहयादवकोसंबोधितनहींकरनेदिया।मंचसेउतरतेसमयमुलायमसिंहयादवनेपत्रकारोंसेकहाकिपार्टीसेनिलंबितकियाजाताहै।बादमेंलखनऊपहुंचकररामप्यारेसिह,रवींद्रबहादुरसिंह,हरिहरसिंह,संगीतदेववयदुनाथसिंहसहितपांचलोगोंकोपार्टीसेनिकालेजानेकीघोषणाकरदी।

चौकाघाटजेलसेलिखापिताकोमार्मिकपत्र

जासं,नरायनपुर(मीरजापुर):वाराणसीकेजिलाजेलचौकाघाटऔरबरेलीजेलमेंबंदीकेदौरानयदुनाथसिंहहमेशाअपनेमित्रोंकेसाथपितासहदेवसिंहवअन्यपरिजनकोअंतर्देशीयवपोस्टकार्डसेहमेशापत्रलिखाकरतेथे।एकपत्रमेंउन्होंनेअपनेपितासेकहाहैकिआपअपनेबेटेकोनालायकनसमझें।आपनेहीतोबचपनमेंकलकत्ताकेक्रांतिकारियोंकीकहानीसुनाकरमेरेमनमेंक्रांतिकाबीजबोया।मैंजनताकेहककेलिएलड़तारहूंगा।उन्होंनेलिखाहैकिवेऐसीसरकारचाहतेहैं,जो18सालतककेबच्चोंकीगारंटीहो।सबकोमकानवगार्डेनहो।दामकीसीमातयहो।500सेकमनहीं,1500सेज्यादानहीं।फैक्ट्री,बैंक,अस्पताल,स्कूलआदिआवश्यकसेवाओंकानिजीकरणनहो।