संवादसहयोगी,रियासी:बारादरीलक्ष्मीनारायणमंदिरसेकौसरनागकेलिएनवमीवार्षिकछड़ीयात्रावीरवारशामकोरियासीपहुंची।यहालोगोंनेछड़ीयात्राकाकाजोरदारस्वागतकिया।

शुक्रवारकोसुबहछड़ीयात्राकौसरनागकेलिएरवानाहोगी।वीरवारशामकोकौसरनागजिलाकमेटीकेप्रधानटाकनदासकेनेतृत्वमेंयात्राढोलबाजोंकेसाथबारादरीलक्ष्मीनारायणमंदिरसेनिकली।कुछदूरीपैदलतयकरनेकेबादवाहनोंमेंसवारहोकरयात्रामेंशामिलभक्तजनऔरसाधुसमाजकेलोगरियासीकस्बेकेवार्डनंबरनौमेंस्थितमहादेवमंदिरपहुंचे।यहामंदिरमेंस्थितप्राकृतिकशिवलिंगकीपूजाअर्चनाकीगई।इसकेबादयात्रावहासेपैदलचौकचबूतराऔरकस्बेकेमुख्यबाजारसेहोतेरियासीनईबस्तीस्थितशिवमंदिरपहुंची।यहाभीविशेषपूजा-अर्चनाकीगई।रातकोमंदिरमेंविश्रामकेबादशुक्रवारसुबहछड़ीयात्राकौसरनागकेलिएरवानाहोगी।

कौसरनागयात्राकमेटीकेप्रधानटाकनदासकेमुताबिकपहलेतोलोगछोटेछोटेसमूहमेंकौसरनागयात्रापरजातेथे।वर्ष2010मेंरियासीसेपहलीबारछड़ीयात्राकीशुरुआतकीगईथी।इसबारनवमीवार्षिकयात्राकौसरनागकेदर्शनोंकेलिएरवानाहोगी।उन्होंनेबतायाकियहस्थानभगवानविष्णुसेसंबंधितहै।उन्होंनेबतायाकिनीलमतपुराणकेमुताबिकभगवानविष्णुजबसंसारकाचक्करलगारहेथेतोउन्होंनेअपनेपावसेकौसरनागस्थानमेंझीलकानिर्माणकियाथा।झीलकोविष्णुपादभीकहतेहैं।ब्रह्मानेइसस्थानपरवैदिकपूजाअर्चनाकीथी।यहझीलकर्मसरयानीपापोंकानाशकरनेवालेनामसेप्रसिद्धहै।कौसरनागझीलकेदर्शनऔरउसमेंस्नानकरनेकाकाफीपुण्यप्राप्तहोताहै।