जागरणसंवाददाता,कैथल:

महाकविसंतोखसिंहसाहित्यसभाकीओरसेगुरूनानकदेवजीके550सालाशताब्दीकोसमर्पिततथाभाईसंतोखसिंहकीयादमेंशानदारकविदरबारआयोजितकियागया,जिसमेंहरियाणावपंजाबकेकवियोंनेगुरूनानकदेवजीकेजीवनफलसफेवजीवनकीविचारधाराकेआधारितकविताएंपेशकी।भाईसंतोखसिंहजीजोकिकैथलकेअंतिमशासकभाईउदयसिंहकेदरबारीकविथे।महाकविसंतोखसिंहसाहित्यसभाकैथलकीओरसेहरवर्ष22सितम्बरकोकविदरबारआयोजितकरकेभाईसंतोखसिंहकोयादकियाजाताहै।इसबारयहसमारोहगुरुद्वारासिंहसभाकरनालरोडकैथलमेंआयोजितकियागया।समारोहमेंसबसेपहलेभाईसाधसिंहहजूरीरागीजत्थाएतिहासिकगुरुद्वाराबैहरसाहिबनेरशभिनाकीर्तनकरकेसंगतकोनिहालकिया।कविदरबारकीअरभतागुलजारसिंहभोलाखरकांनेबलविद्रसंधाकागीत'सुणकेगुरुनानकदीवाणी,होगयेपत्थरदिलभीपाणी'सुनाकरसंगतकोमंत्रमुग्धकरदिया।मोरिडासेआएपंथककविबलबीरसिंहबलनेकहाकि'गुरु-गुरुतासबकोईकैहंदा,गुरूदाहौकेहरनासिखो'इसकविताकोगाकरसमांबांधदिया।मास्टरजयदेवसिंहथिदनेभाईसंतोखसिंहजीकोयादकरतेहुएकहाकि'जिसदीकलमदीघर-घरहोईचर्चा,उसदादिनमनोणनूंजीकरदां'बहुतअच्छीलगी।अम्बालासेआएगुरूचरणयोगीकीपेशकारीइसतरहरही'मर्दानाबाबेनालसी,बचपनदाहाणी,इकनेसाजवजाया,दूजेनेउचरीवाणी'।इसमौकेपरमहाकविसंतोखसिंहसाहित्यसभाकैथलवअमरावसिंहसीनाचेयरमैनबाबाबंदासिंहबहादुरइंटरनेशनलफाउंडेशनहरियाणाकेसहयोगसेआएहुएकवियों,समाजसेवीडॉ.मोहिद्रसिंहशाहसहितअन्यनेसहयोगीकिया।