आगरा,जागरणटीम।चैतन्यमहाप्रभुकेअनन्यभक्तगोपालभट्टगोस्वामीकेप्रेमकेवशीभूतहोकरठा.राधारमणलालजूशालिग्रामशिलासेप्रकटहुए।ठाकुरजीकाप्राकट्योत्सवपरमंदिरमेंसोमवारसुबहपंचामृतसेमहाभिषेकहुआ।इसविलक्षणपलकासाक्षीबननेकोहजारोंभक्तमौकेपरमौजूदरहे।

ठा.राधारमणलालजूकेप्राकट्योत्सवसेामवारकोमंदिरमेंधार्मिकअनुष्ठानोंकेसाथमनाया।प्रात:कालवैदिकऋचाओंकीअनुगूंजकेमध्यठाकुरजीकेश्रीविग्रहका2100किलोदूध,दही,घी,शहद,शक्कर,पंचगव्य,सर्वाेषधि,गंधाष्टक,बीजाष्टकसमेत54जड़ी-बूटियोंसेमहाभिषेककराया।ठाकुरजीकेप्राकट्योत्सवपरमहाभिषेकदर्शनकोदेशदुनियाकेभक्तोंनेसुबहसेहीमंदिरमेंडेराडाललियाथा।जैसेहीसुबहठाकुरजीकामहाभिषेकशुरूहुआभक्तोंकेजयकारेसेमंदिरपरिसरगूंजउठा।मंदिरमेंनामसंकीर्तनकरतेसाधकोंकेस्वरोंपरभक्तझूमतेनजरआए।मंदिरकेप्रवेशद्वारपरबजरहीशहनाईठाकुरजीकेप्राकट्योत्सवकोउल्लासमयबनारहीथी।

-ऐसेप्रकटहुएभगवान

मंदिरसेवायतऔरगोपालभट्टगोस्वामीकेशिष्यदामोदरगोस्वामीकेवंशजशरदचंद्रगोस्वामीकेअनुसारगोपालभट्टगोस्वामीकीअपनेआराध्यशालिग्रामशिलामेंहीगोविंददेवजीकामुखगोपीनाथजीकावक्षस्थलऔरमदनमोहनजीकाचरणारविंदकेदर्शनकीअत्यंतउत्कंठाथी।

इसीपूर्णिमाकेदिनजबभक्तप्रहृलादकीभक्तिसेप्रसन्नहोकरभगवाननृसिंहदेवप्रकटहुएतोगोपालभट्टगोस्वामीनेअपनेआराध्यसेकहाक्यामेराभीऐसासौभाग्यहोगा,इसशालिग्रामशिलामेंप्राकट्यरूपकेदर्शनकरसकूंगा।

परमभक्तकीअभिलाषाप्रभुसेछिपीनहींरहीऔरवैशाखशुक्लापूर्णिमाकीभोरमेंठा.राधारमणदेवशालिग्रामशिलासेप्रकटहुए।प्राकट्यकर्तागोपालभट्टगोस्वामीकीप्रेरणासेहीवैशाखशुक्लापूर्णिमाकोउनकाजन्मोत्सवमनायाजाताहै।