जागरणसंवाददाता,वाराणसी:ज्ञानवापीमेंनएमंदिरकेनिर्माणऔरहिंदुओंकोपूजा-पाठकरनेकाअधिकारदेनेकोलेकरपं.सोमनाथव्यास,डा.रामरंगशर्माएवंअन्यने15अक्टूबर1991कोसिविलजज(सी.डि.)कीअदालतमेंवाददायरकियाथा।वादमेंकहागयाकिविवादितस्थलस्वयंभूविश्वेश्वरज्योतिर्लिंगमंदिरकाअंशहै।हिंदुओंकोउक्तस्थलपरपूजा-पाठ,दर्शन-पूजनएवंअन्यधार्मिककार्यकरनेकाअधिकारहै।इसविवादितढांचाकेनीचेज्योर्तिलिंगऔरउनकाअर्घाविद्यमानहै।इसवादपरअंजुमनइंतजामियामसाजिदकीओरसेआपत्तिकीगई।दलीलदीगईकियहवादपोषणीयनहींहैक्योंकिपूजा-स्थलविशेषउपबंधअधिनियम1991कीधारा-चारसेबाधितहै।

स्वयंभूविश्वेश्वरज्योतिर्लिंगकीओरसेदलीलदीगईकि15अगस्त1947कोज्ञानवापीविवादितस्थलकास्वरुपमंदिरकाहीथा,क्योंकिइसकेनीचे15वींशताब्दीकेमंदिरकाअवशेषहै।ढांचेकीअंदरूनीआकृतिमंदिरकीहैऔरऊपरतीनगुंबदबनादिएगएहैं।अपरसिविलजजनेदोनोंपक्षोंकीबहससुननेकेबादउक्तवादकोपूजा-स्थलविशेषउपबंधअधिनियम1991कीधारा-चारसेबाधितहोनेकेसंबंधमेदावेमेंमांगेगयेअनुतोषमेंसंशोधनकेलिएआदेशदियाएवंसंशोधनकेसाथदावाचलनेकाआदेशदिया।इसआदेशकेविरुद्धदोनोंपक्षोंद्वारासिविलरिवीजनजिलाजजकीअदालतमेंदाखिलकियागया।अपरजिलाजज(प्रथम)कीअदालतनेसुनवाईकरतेहुएसिविलजजकेनिर्णयकोनिरस्तकरदियाऔरकहाकिबिनामौकेकासाक्ष्यलिएबगैरयहनहींकहाजासकताहैकिविवादितस्थलकाधार्मिकस्वरुपमंदिरकाहैयामस्जिदका।अदालतनेपूरेपरिसरकाविस्तृतसाक्ष्यसंकलितकरानेकाआदेशदिया।इसआदेशकेखिलाफअंजूमनइंतजामियामसाजिदवउ.प्र.सुन्नीवक्फबोर्डलखनऊकीओरसेवर्ष1998मेंहाईकोर्टमेंदोयाचिकाएंदायरकीगई।

इसबीचपं.सोमनाथव्यासकीसातमार्च2000कोमृत्युहोगई।तत्पश्चात्मुकदमेमेंउनकेस्थानपरपैरवीकरनेकेलिएअदालतने11अक्टूबर2018कोपूर्वजिलाशासकीयअधिवक्ता(सिविल)विजयशंकररस्तोगीकोवादमित्रनियुक्तकिया।मुकदमेकीसुनवाईकेदौरानवादमित्रविजयशंकररस्तोगीनेअयोध्याकीभांतिज्ञानवापीपरिसरएवंकथितविवादितस्थलकाभौतिकएवंपुरातात्विकदृष्टिसेभारतीयसर्वेक्षणविभागसेरडारतकनीकसेसर्वेक्षणकरानेकीअदालतसेअपीलकी।इसअपीलपरसुन्नीसेंट्रलवक्फबोर्डऔरअंजुमनइंतजामियामसाजिदकीओरसेआपत्तिकीगई।सिविलजज(सीनियरडिवीजनफास्टट्रैक)आशुतोषतिवारीनेवादीऔरप्रतिवादीपक्षकीबहसोंकोसुननेएवंनजीरोंकेअवलोकनकेबादआठअप्रैल2021कोवादमित्रकीअपीलकोमंजूरकरलियाऔरपुरातात्विकसर्वेक्षणकरानेकाआदेशजारीकरदिया।इसआदेशकेखिलाफसुन्नीसेंट्रलवक्फबोर्डऔरअंजुमनइंतजामियामसाजिदकीओरसेइलाहाबादहाईकोर्टमेंरिटयाचिकादायरकीगईहै।इसयाचिकाकानिस्तारणहोनाहै।