गया।बाबूवीरकुवंरसिंहकीजयंतीशनिवारकोविभिन्नसरकारीस्कूलोंमेंविजयोत्सवकेरूपमेंमनाईगई।टिकारीराजइंटरस्कूलकेसभागारमेंवीरकुंवरसिंहकेचित्रपरमाल्यार्पणवपुष्पांजलिअर्पितकीगई।इसकेबादस्वतंत्रताआंदोलनऔरसन1857कीलड़ाईमेंउनकीवीरताकीकहानीपरवक्ताओंनेविस्तारसेप्रकाशडाला।कार्यक्रमकेअंतमेबच्चोंकोअल्बेंडाजोलकीगोलीखिलाईगई।मौकेपरडा.हरेकृष्णकुमार,वारिशज्याशाहिद,नीतावैष्णवी,शशिनाथपांडेय,मोहनकुमार,कुणालकिशोरआदिउपस्थितथे।कार्यक्रमकासंचालनचंदनकुमारनेकिया।प्लसटूसर्वोदयउच्चविद्यालयमखदुमपुरमेंप्रभारीप्रधानाध्यापकमो.अबरारआलमकीअध्यक्षतामेंआयोजितजयंतीसहविजयोत्सवकार्यक्रमकोसंबोधितकरतेहुएशिक्षकोंनेआजादीकीलड़ाईमेंवीरकुंवरसिंहकेयोगदानपरप्रकाशडाला।मो.आलमनेकहाकि1857कीआजादीकीपहलीलड़ाईकेनायकोंमेंकुंवरसिंहकामहत्वपूर्णयोगदानथा।इसअवसरपरडापुरुषोतमकुमारद्वाराआयोजितक्विजप्रतियोगितामेंखुशीकुमारीकोप्रथम,खुशबूकुमारीकोद्वितीयएवंसंगमकुमारी,अर्जुनकुमारवपुरुषोतमकुमारकोतृतीयस्थानकेलिएसम्मानितकियागया।शहरकेप्लसटूबालिकाउच्चविद्यालयमेंप्रभारीडा.रंजीतकुमारसिंहकीअध्यक्षतामेंजयंतीमनाईगई।अध्यक्षीयभाषणमेंउन्होंनेकहाकिवीरकुंवरसिंहबिहारकेहीनहींबल्किभारतकेगौरवथे।आजउनजैसेमहाननायकसेप्रेरणालेकरदेशकोशौर्य,उन्नतिवविकासपरलेजायाजासकताहै।आदर्शमध्यविद्यालयटिकारीमेंबाबूवीरकुंवरसिंहकीजयंतीविजयोत्सवकेरूपमेंप्रधानाध्यापकमुकेशप्रसादवर्माकेनेतृत्वमेंमनायागया।उन्होंनेविद्यार्थियोंकोबाबूवीरकुमारसिंहकेयादगारलम्होंऔरउनकीवीरताकीकहानीपरविस्तारसेजानकारीदी।शिक्षकोंएवंबालसंसदकेमंत्रीमंडलकेसदस्योंनेमाल्यार्पणकरश्रद्धासुमनअर्पितकरकुंवरसिंहकोयादकिया।मौकेपरआनंदमोहन,वजीहखातून,अभयकुमार,वीनाकुमारीआदिउपस्थितथे।